समय का खेल एक कहानी, real story in hindi

real story in hindi

समय का खेल एक कहानी

real story.jpg

real story in hindi

रियल हिंदी स्टोरी, आज पहले से ही ऑफिस जाने में बहुत देर हो गई थी क्योंकि आज उठने में बहुत समय लग गया था रात को तबीयत बहुत ज्यादा खराब थी इसलिए सुबह जल्दी उठा ही नहीं गया और आज ऑफिस जाने में भी देरी हो रही थी उधर श्रीमती नाश्ते बनाने के काम में लगी हुई थी क्योंकि जल्दी-जल्दी बनाना था

 

 घड़ी को देख कर ऐसा लग रहा था कि जैसे घड़ी के भी पैर लग गए हैं और वह बहुत तेजी से भाग रही है जब भी समय कम होता है हमेशा ही घड़ी बहुत तेजी से चलती है जब सब कुछ तैयार हो गया तो अब सोचा चलना चाहिए क्योंकि 15 से 20 मिनट की देरी तो पहले ही हो गई है और बाकी रास्ते में भी अगर जाम मिला तो वहां पर भी कुछ ना कुछ समय तो लग ही जाएगा

 

जैसा की हमने सोचा था बाहर निकलते ही जाम लगा हुआ था अब इस जाम से बचने के लिए ही सुबह जल्दी निकला जाता था अब कुछ भी नहीं किया जा सकता था क्योंकि अब तो समय निकल चुका था तभी सामने से एक बूढ़ा आदमी आ रहा था शायद वह एक भिखारी था वह भीख मांग रहा था कुछ लोग उसे कुछ दे रहे थे और कुछ नहीं दे रहे थे वह भिखारी मांगता हुआ आगे बढ़ रहा था जाम बहुत लंबा था

 

सभी गाड़ियां रुकी हुई थी वह भिखारी मेरे पास आया और मैंने भी उसे कुछ पैसे दिए और आगे चला गया जब भी कोई मांगने आता है तो हमें दे देना चाहिए पता नहीं किस को कितनी जरूरत है जाम खुला और अब हम आगे बढ़ने के लिए तैयार थे जब हम ऑफिस पहुंचे तो पता चला कि सभी लोग बाहर खड़े हुए हैं

 

कुछ लोग अंदर ही हैं और वह बाहर निकलने की कोशिश कर रहे हैं पता नहीं क्या हो रहा है क्योंकि मैं तो अभी-अभी पहुंचा हूं तभी मेरे एक दोस्त ने बताया है कि आज सभी लोग समय पर थे और तुम बहुत लेट हो गए थे कुछ देर बाद ही बिल्डिंग में अचानक ही तारो मैं शॉर्ट सर्किट हो गया और वायर जलने लगी बड़ी मुश्किल से सभी लोग बाहर निकल पाए हैं

 

रियल हिंदी स्टोरी, वैसे किसी को कुछ नहीं हुआ है लेकिन यह अच्छी बात है कि तुम अभी तक नहीं आए थे हमारे बॉस भी अभी-अभी पहुंचे हैं और उन्हें जब यह पता लगा तो आज सभी को उन्होंने बाहर ही रहने को कहा है इसलिए तुम्हारे बारे में बॉस को पता नहीं चला है कि तुम लेट हो गए हो हम जितना सोचते हैं कि हम लेट हो गए हैं लेकिन लेट होने के पीछे भी कभी-कभी कुछ कारण होते हैं जिनको इंसान बिल्कुल भी नहीं पहचान पाता है इसलिए अगर आप लेट हो जाते हैं तो इस बात की चिंता ना करें कि आप लेट हो गए हैं क्योंकि यह कोई नहीं जानता कि समय का खेल क्या है.

Read More Hindi Story :-

Read More-बीरबल की समझदारी

Read More-अकबर बीरबल की कहानी

Read More-अकबर का नया सवाल

Read More-बीरबल की नयी कहानियां

Read More-ढोंगी पुजारी की हास्य कहानी

Read More-घोड़े की हास्य कहानी

Read More-राजा और साधू की कहानी

Read More-एक शक्ल के दो आदमी एक कहानी

Read More- उसने की एक रोटी की मदद

Read More-ज्ञान की बातें एक कहानी

Read More-एक चोर की हिंदी कहानी

Read More-एक समझदारी की कहानी

Read More-समय पर नहीं आया एक कहानी

Read More-हास्य राजा की कहानी

Read More-राजा और भिखारी में बड़ा कौन

Read More-शापित शेर की कहानी

Read More-दो भिखारी की कहानी

Read More-एक सेवक की कहानी

Read More-मंगू की आदत की कहानी

Read More-बीमारी से मिला छुटकारा कहानी

Read More-पारस पत्थर की कहानी

Read More-मंजिल आपके सामने हिंदी कहानी 

Read More-एक अतिथि की कहानी

Read More-इनाम का लालच एक कहानी

Read More-हिंदी कहानी बारिश की बूंदे

Read More-राजा का वादा एक कहानी

Read More-राजा और माली की कहानी

Read More-एक अच्छी मदद की कहानी

Read More-सच्चे भक्त की कहानी

Read More-गरीब परिवार की कहानी

Read More-लालच एक कहानी

Read More-सच्ची सेवा की कहानी

Read More-साधू और शिष्य की मोरल कहानी

Read More-जीवन की सोच एक कहानी

Read More-सच्ची ख़ुशी का जीवन 

Read More-दानवीर की कहानी

Read More-दुःखी जीवन की कहानी

Read More-शक की बुनियाद एक कहानी

Read More-भूत की सच्ची कहानी

Leave a Reply

error: Content is protected !!