भूत की सच्ची कहानी, bhuto ki kahaniya | Bhoot ki kahani

Bhuto ki kahaniya | Bhoot ki kahani

भूत की सच्ची कहानी :- bhoot ki kahani, bhoot pret ki kahaniya, horror story in hindi, भूत होते हैं या नहीं इस बात का पता तभी चलता है जब इंसान को इस बात का आभास होता है कि उसके साथ कोई ऐसा है जो दिखाई नहीं देता है क्योंकि जब यह बात पता चलती है कि तुम्हारे साथ ऐसा कोई आदमी भी रहता है जो दिखाई नहीं देता है तो इससे ज्यादा डर कभी नहीं लगता.

भूत की सच्ची कहानी : bhuto ki kahaniya

bhoot kahani.jpg

bhoot ki kahani

यह कहानी (bhoot ki kahani) एक गांव में रहने वाले लड़के की है जिसकी उम्र कुछ ज्यादा तो नहीं थी लेकिन हमेशा यही कहता था कि उसके साथ कोई है लेकिन कोई भी इस बात को मानने को तैयार नहीं होता था जब तक कोई इंसान किसी के बारे में जानना चाहता है (bhoot ki kahani) तो वह यह सोचता है कि वह इंसान कहां है जब कोई दिखाई नहीं देता तो उसके बारे में बात क्या की जाए. वह लड़का हमेशा कहता था कि मेरे साथ कोई ऐसा है जो चलता है और मुझे कभी-कभी वह डराता भी है सभी गांव वाले उसकी बात को नकार देते थे और कहते थे यह शायद पागलों जैसी बातें करता है इसकी बात पर विश्वास करना बहुत मुश्किल है एक दिन सभी गांव वाले अपने अपने खेत में काम कर रहे थे तभी वह लड़का आया और उनके पास कहने लगा कि आज वह मुझे मार रहा है और बहुत ज्यादा गुस्से में है

Advertisement

अब क्या करे भूत कहानी

घबराहट का सामना हिंदी कहानी

Advertisement

उसी वक्त गांव वालों ने कहा कि तुम्हें घर चले जाना चाहिए और आराम करना चाहिए और यह बेकार की बातें करना बंद कर दो तो ज्यादा अच्छा है क्योंकि हमें यह बात अच्छी नहीं लगती है जब कोई इंसान दिखाई नहीं देता है तो उसके बारे में हम क्या बात करें और जो भूत की बातें करते हो वह भूत है  हमें तो उसका एहसास भी नहीं होता है तुम्हें एहसास होता है ऐसा कैसे हो सकता है लेकिन उस लड़के की शक्ल को देखकर लग रहा था कि आज वह बहुत डरा हुआ है जब उस लड़के ने अपनी पीठ पर निशान दिखाए तो ऐसा लगता था कि उसे पीटा गया है लेकिन कोई भी गांव वाले इस बात को मानने को तैयार नहीं था क्योंकि वह एक ही बात कहता था कि उसके साथ कोई है जो दिखाई नहीं देता और उससे बातें करता है तभी उस लड़के को एक अचानक ही धक्का लगा और वह गिर गया एक किसान ने उसे उठाया और कहा कि तुम्हें ठीक से खड़ा भी नहीं हो या जा रहा है इसलिए तुम ऐसा करो आराम कर लो हो सकता तुम्हारी तबीयत खराब हो

मैं यहां हू हिंदी कहानी

यहां पर कोई भूत नहीं है कहानी

Advertisement

कुछ देर बाद जब वह लड़का अपने पैरों पर से थोड़ा सा ऊंचाई पर उठा तो सभी उसकी ओर देखने लगे क्योंकि वह ऐसा लग रहा था जैसे कि उड़ रहा है जब सभी लोगों ने यह देखा तो सब वहां से भागने की तैयारी करने लगे कोई भी आदमी उसके पास रुकने को तैयार नहीं था जब यह बात गांव में पता चली तो उन्हें विश्वास हुआ कि शायद उसके साथ कोई रहता है इसीलिए यह सब को कहता रहता है कि मेरे साथ कोई है गांव वालों ने मिलकर उससे बात की और कहा कि हम तुम्हारे लिए जरूर कुछ करेंगे तब उन्होंने एक प्रसिद्ध बाबा को बुलाया ऐसा माना जाता था उस समय में कि बाबा हर एक समस्याओं का समाधान कर सकते हैं बाबा आए और उन्होंने उस लड़के को देखा और पता नहीं ऐसा क्या किया कि उसके बाद से उस लड़के के साथ कुछ भी ऐसा बुरा नहीं हुआ जो वह कहता था इससे हमें पता चलता है कि जब किसी के साथ कुछ होता है

वहा कोई नहीं जाता हिंदी कहानी

आज भी इंतज़ार कर रहा है

भूत की कहानी, (bhuto ki kahaniya) तभी हम यकीन करते हैं वरना हम यकीन नहीं करते हैं क्योंकि यह बात भी सच है जब कोई दिखाई नहीं देता तो हम इस बारे में बात भी क्या करें इसलिए अगर आपको लगता है कि कोई ऐसा कह रहा है तो उसकी बातों पर थोड़ा बहुत गौर कर लेना चाहिए, हो सकता है कि वह सच बोल रहा हो यह कहानी भूत की सच्ची घटना , (bhoot pret ki kahaniya), (horror story in hindi), पर है बहुत से लोगों को विश्वास हो या ना हो लेकिन जिसके साथ घटित होता है वही समझ सकता है. कुछ बातो पर यकीन करना मुश्किल होता है मगर जब तक हमे सच का पता नहीं चलता है तब तक हम यकीन नहीं करते है, 

 

गांव का भूत हिंदी कहानी : Bhoot ki kahani 

मेने तो यह सुना था की उस गांव में भूत (bhoot) है जो सभी को परेशान कर रहा है ऐसा सुनकर तो पास के गांव वाले भी आ गए थे क्योकि कोई भूत (bhoot) कैसे परेशान कर सकता है जब दूसरे गांव के आदमी वहा पर आते है तो पूरी बता पूछते है सभी गवा वाले यही कहता है की वह जो रास्ता है जिससे सभी लोग आते है उस जगह पर ऐसा होता है

अनजाने सफर की कहानी

वह भूत आवाज लगाता है जिसकी आवाज से ही सभी लोग डर जाते है मुझे भी पहले यह बात नहीं पता था की एक दिन की बात है यह कोई रात के दस बजे होंगे में अपने गेहू बेचकर आ रहा था वह पर अचानक ही मुझे एक आवज आती है वह आवाज तो में नहीं पहचानता मगर उसने मेरा नाम लिया था नाम लेकर उसने मुझे रुकने के लिए कहा उस दिन तो में बहुत डर गया था

हवेली का डर कहानी

उसी वक़्त वहा से भागने में ही भलाई थी वही मेने किया था यह बात सभी को बताई थी, जब सभी को बताया तो कोई भी यकीन नहीं कर रहा था मगर कुछ दिन पहले की बता है जब हमारे गांव का आदमी आ रहा था तभी उसके साथ कुछ ऐसा हुआ था, यह बात शाम की थी उसे बहुत प्यास लग रही थी जब उसने पानी पीने के लिए उस जगह पर रुका था तो पानी का नल अपने आप चल रहा था यह देखकर बहुत डर गया था

समय बदल नहीं रहा है

सभी को अब लगने लग था की यहां पर हमेशा यही खतरा है और कुछ भी नहीं किया जा सकता है जो भी उस जगह से जाता है तो उसके सामने परेशानी आती है इसलिए सभी ने मिलकर उस जगह को बंद कर दिया था अब कोई भी उस रास्ते से नहीं जाता था वह रास्ता अब बंद हो गया था कुछ परेशानी को हम दूर नहीं कर सकते है मगर उससे दूर हो सकते है अगर आपको लगता है की आपने भी ऐसा कुछ देखा है तो हमे जरूर बताये, भूत की कहानी, (bhoot ki kahani) (bhoot pret ki kahaniya), (horror story in hindi) अगर आपको यह कहानी पसंद आयी है आगे भी शेयर कर सकते है.

Read More Ghost Story Hindi :-

अद्भुत घटनाएं

भूत की सच्ची कहानी

सुनसान रास्ते की एक घटना

भूतों की कहानी

शापित शेर की कहानी

रात की आवाज का डर कहानी

रात की घड़ी का डर भूत कहानी

भूत प्रेत की कहानी

कोई उन्हें देख रहा था कहानी

भूत होने का डर कहानी

पता नहीं कौन था कहानी

दहशत की रात एक कहानी

मेने उसे देखा था भूत कहानी

डर की हिंदी कहानी

Advertisement

8 thoughts on “भूत की सच्ची कहानी, bhuto ki kahaniya | Bhoot ki kahani

  1. SAMIRKHANANDAYESHA

    Aaj main aapko ek asli mere dost ki biti hui ghatna ka ullekh karne ja rahu main ye kahani apne dost ki jubani sunane ja raha hu main ayan jamshedpur ka rehne wala hu aap log bhut pret ya kisi bhi prakar ki ghatna ghati hui bate sune ho mera ghar ek kabrishtan ke 1 road side ke faasle me hai bagal me kabrishtan hone se mujhe itna to dar pehle nahi rakhta tha par internet me bhut pret ki roj kahani padhne ki aadat kuch bhut pret ki kahani post karne ki aadat horror sound aap install karke main raat ke waqt road ke paas ek diesel auto me apne mobile me horror sounds play kar diye the jiska mujhe koi khushi nahi mili kyunki koi bhi aadmi aas paas nahi dekha aur us samay karib raat 9:30 baj raha tha aur main ghar aa gaya isi prakar main roz internet me kahani padhta video dekhta aur sham ke waqt horror sounds play karta tha ek din koi is horror sound ko sunkar mere paas aya aur kabrishtan ka raasta batate hue kaha is jagah bajao bahut log darenge main nahi gaya aur kuch hi pal ke liye maine jab bahar doosre side se jhanka ke sayad aur koi aaye phir jaise mude dekhe woh aadmi nahi hai kuch hi pal me gayb ho jana mujhe accha nahi laga maine apne puri baat maa ko batai usne kaha kabhi ye sab na dekhna aur na sunna aur kisiko kabhi bhi pareshan mat karna dosto kahani yahi samapt hoti hai by by

  2. SAMIRKHANANDAYESHA

    Dosto aaj main aapko bhut pret ki aap biti ghatna batane ja raha hu toh dosto mera jharkhand ke andar ek sahar hai jiska naam jamshedpur hai toh jamshedpur ke eh ilaqe ki satya ghatna batane ja raha hu san 2008 ki baat hai shashtri nagar jaha mera ghar hai paas me hi ek siya kabrishtan hai uske bagal me ek ghar hai us ghar me kuch aisa the jinhe har koi janta tha magar kisiko ye ehsas nahi hua ki aakhir kya hua aksar log dare rehte the sab log apne baccho ko samjhate the ke waha mat jana woh jagah thik nahi hai meri maa bhi mujhse kaha karti thi maaf karye ga dosto maine apna naam nahi bataya to dosto mera naam samir hai aksar maa mujhe waha jane se rokti main waha jata nahi tha par ek din mujhe ye janne ki iccha hui ke aakhir waha kya hai toh doosre din maine apne kuch dosto ko samjhaya manaya aane ke liye raazi karwaya karib sham ke 5pm hum log us jagah par pahunche jaise hi hum andar gaye kamra toh thij thak tha par hamare kuch dosto ko ye lag raha tha ke koi uska peecha kar raha ho magar mudne par kuch nahi hota halaki raat ke waqt hum log nahi gaye the surakchit wapas aagaye by by

  3. SAMIRKHANANDAYESHA

    Dosto aaj main phir wapas louta hoon bhut pret ki asli kahani par jamshedpur jaha main aur mera poora parivar rehta hai hum log yaha thik thak toh rehte hai mera poora parivar khush hai par mere dil me darr tha roz raat ko karib 2pm me sota tha darr ke mare mera raunghta khada ho jata tha raat 12pm baje ke baad mujhe ghar me kuch negative urja mehsus hoti thi roz raat me payal ki aawaz aati thi kabhi kabhi to humare bathroom se kisi ki pani me khelne ki aawaz aati thi ek din mujhe jab ye mehsus hua toh main ja kar dekha par mahol thik tha khair ab woh ghar hum khali kar ke shashtri nagar aa gaye hai by by

  4. SAMIRKHANANDAYESHA

    Bhut pret hote hai ya nahi iske baare me mujhe kuch pata toh nahi hai par logo ko is andhvishwashi se ghire dekha hoon ek baar ki baat hai mere dost ke bhai ko kabrishtan ke paas dekha gaya jab use ghar laya gaya to wo ajeeb bartao kar raha tha khana ajeeb tarah se kha raha tha aur bhi bahut tarah ki ajeeb ajeeb harkate kar raha tha usi doran main koi logo se suna isme (jin)jinnath bhut khabbis aadi log keh rahe the kya ye sach hota hai reply kare

  5. raipatrelve

    nice

  6. Quick Loan

    good

  7. Anonymous

    ok

  8. PhilJuicy

    Hi.

Comments are closed.