भूत प्रेत की कहानी, bhoot pret ki kahani

Bhoot pret ki kahani

भूत प्रेत की कहानी, bhoot pret ki kahani, इस कहानी से पता चलता है की भूत-प्रेत होते है, जब तक कोई उन्हें देखता नहीं है तब तक यकीन करना मुश्किल होता है. मगर जब कोई देख लेता है तो पता चलता है की यह भी दुनिया में होते है, 

भूत प्रेत की कहानी : bhoot pret ki kahani

bhoot pret.jpg
bhoot pret ki kahani

हम सभी यह जानते है की भूत प्रेत होते है, but कुछ लोग इस बात पर यकीन नहीं करते है, वह सभी भी अपनी जगह पर सही है, Because हम यह नहीं कह सकते है की भूत प्रेत असल में होते है Because इसका जवाब तो उनके पास होता है जो उन्हें देख पाते है, जो देख सकते है वही इस बात को कह सकते है, Because बिना देखे तो किसी भी बात पर यकीन नहीं होता है, but बहुत ही कम लोग ऐसे होते है जो उन्हें देख सकते है, या किसी ने अनजाने में उन्हें देखा होगा,

रात की घड़ी का डर भूत कहानी

कुछ ऐसी ही घटना के बारे में हम बताने जा रहे है, जिन्होंने ने भूत को देखा भी है और महसूस भी किया है, जिससे उन्हें लगता है की bhoot दुनिया में होते है, यह bhoot pret का डर हमेशा लगा रहता है but हमने यही भी देखा है जो इनसे बहुत ज्यादा डरते है वह रात के समय में हल्की हवा चलने पर भी डर जाते है, इसलिए हमे इन पर बहुत ज्यादा विश्वास नहीं करना चाहिए Because जब तक आपने देखा नहीं है आप कैसे किसी बात पर यकीन कर सकते है, but हम यहां पर एक ऐसी घटना के बारे में बताने जा रहे है जैसा की ऊपर हमने बताया है,

रात की आवाज का डर कहानी

चलिए अब हम अपनी कहानी की और आगे बढ़ते है, रात का समय था एक परिवार अपने गांव जा रहा था, जबकि वह रात का सफर करना नहीं चाहते थे मगर उन्हें ऑफिस से आते हुए काफी देर हो गयी थी, उन्हें ऐसा लग रहा था की वह जल्दी ही आ जायँगे but ऐसा नहीं हुआ था, उन्हें निकलने में इस लिए देर हो गयी थी Because ऑफिस में काम बहुत ज्यादा ही आ गया था, जिससे वह देर से ही निकल पाए थे, 

शापित शेर की कहानी

जब वह घर पहुंचे तो पहले से ही देर हो गयी थी उन्हें अब निकलना था, वह सभी अपनी कार से ही गांव जा रहे थे यह रात का सफर बहुत ही ज्यादा डरवाना लग रहा था, उन्हें ऐसा रास्ता लेना पड़ता था जिस पर शायद ही कोई आता होगा, Because रात के समय में वहा से कोई भी नहीं जाता था, यह सफर लगभग दस किलोमीटर का था जोकि बहुत डरावना था दोनों और पेड़ ही थे देखने पर जंगल जैसा रास्ता लगता था, यह मैन रोड से अलग था और गांव जाने के लिए ऐसी रस्ते से जाया जाता था,

दहशत की रात एक कहानी

जब यह रास्ता आया तो उन्होंने ने अपनी कार इसी रस्ते पर ले ली थी, और आराम से चल रहे थे क्योकि यहां पर सामने से भी कुछ नहीं आने वाला था, गांव बहुत ही अंदर था but एक पुरानी हवेली जो बहुत साल से बंद थी रस्ते में पड़ती थी ऐसा कहा जाता था की यह बहुत साल से बंद है, Because यहां पर कोई नहीं आता है जब कोई आता ही नहीं है, तो कोई अंदर भी नहीं जाता है but इसके बारे में बहुत से किस्से गांव वालो ने बनाये थे, but कुछ लोग विश्वास करते थे कुछ नहीं,

डर की हिंदी कहानी

वह कार उस हवेली के पास से जा रही थी अचानक ही कार की लाइट बंद हो गयी थी जिससे सामने कुछ नज़र नहीं आ रहा था अब रास्ता भी दिखाई देना बंद हो गया था, पता नहीं कार की लाइट कैसे बंद हो गयी है, अब गांव में जाने के लिए रास्ता भी नज़र नहीं आने वाला है, यह तो समस्या हो गयी है, परिवार के सभी लोग परेशान थे, वह आदमी कार से  नीचे आता है और देखता है की कार की लाइट बंद कैसे हो गई है, जब वह कार की लाइट देखता है तो सब कुछ ठीक लग रहा था

घबराहट का सामना हिंदी कहानी

but लाइट जल नहीं रही है, अब क्या करे तभी सामने से कोई आता नज़र आया था, वह एक आदमी था वह उनके पास आया और कहने लगा की आप कौन है और यहां पर क्या कर रहे है, तभी सारी बात उस आदमी को बता दी थी, वह आदमी कहने लगा की आज रात तो आप कही नहीं जा सकते है Because कार की लाइट खराब हो गयी है आप सभी उस हवेली में चलिए में वही पर रहता हु, जब सुबह होगी तो चले जाना यह गर्मियों का समय था अब उस हवेली के बारे में जो भी सुना हुआ था उसे जानकार वहा जाना कोई आसान काम नहीं था,

मैं यहां हू हिंदी कहानी

वह आदमी कहने लगा की आप किस सोच में पड़ गए हो, चलिए अंदर चलते है उसके बाद वह आदमी उन्हें अंदर ले गया था, अंदर जाने पर सब कुछ अच्छा लग रहा था ऐसा लग ही नहीं रहा था की यह हवेली अंदर से बंद है, हवेली की हालत बहुत अच्छी थी, उसके बाद वह आदमी ऊपर गया और कहने लगा की आप यही पर रुकिए में अभी आता हु, जब वह चला गया तो सब कुछ बदल गया था वह हवेली पूरी तरह से बेजान हो गयी थी, सब कुछ ऐसा लग रहा था की यहां पर बहुत साल से कोई आया नहीं है,

वहा कोई नहीं जाता हिंदी कहानी

अब उसके बाद वहा से भागने में ही भलाई थी सभी लोग भाग कर बहार आ गए थे अब कार में बैठना भी ठीक नहीं था इसलिए पैदल ही घर पहुंच गए थे, उसकी अगली सुबह ही किसी आदमी के साथ कार को लेकर आ गए थे जब यह बात हमने घर पर बताई तो विश्वास नहीं हो रहा था Because वह तो बहुत साल से बंद है फिर वहा पर रहता है, उस पर यकीन करना थोड़ा मुश्किल लगता है but आप कह रहे है तो हो भी सकता है.  

पता नहीं कौन था कहानी

लेकिन इस बात से तो यही लगता है की कुछ भी हो सकता है, हमारी दुनिया बहुत अजीब है हमे पता भी नहीं है की यहां पर क्या हो सकता है इसलिए जो देखता है उसे यकीन होता है, भूत प्रेत की कहानी, bhoot pret ki kahani, आपको यह कहानी कैसी लगी है हमे जरूर बताये, 

Read More Ghost Story Hindi :-

हवेली का डर कहानी

अनजाने सफर की कहानी

अद्भुत घटनाएं

भूत की सच्ची कहानी

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!