भूत और गांव की कहानी, Bhoot story in hindi

Bhoot story in hindi | Bhuton ki kahani

भूत और गांव की कहानी , Bhuton ki kahani, Bhoot story in hindi, भूतो की कहानी पढ़ने से कुछ बातों का पता चलता है की जीवन में कुछ ऐसा भी हो रहा है जिसके बारे में हमे पता नहीं चलता है, but हम सभी कुछ जरूर जानना चाहते है, की ऐसा क्यों हो रहा है, यह भूत की कहानी  हम यहां पर लेकर आये है, शायद इससे कुछ पता चल पाए, हमे उम्मीद है की आपको यह कहानी पसंद आएगी,

भूत और गांव की कहानी : Bhoot story in hindi, Bhuton ki kahani

bhoot story.jpg
bhoot story in hindi

Bhuton ki kahani, Bhoot story in hindi, यह कहानी एक गांव की है जिसमे एक मुखिया रहता था उसका एक ही लड़का था, but वह लड़का कुछ ऐसी बातें करता था जिससे मुखिया यही कहता था की शायद इस पर कुछ हुआ है जिससे यह बातें करता था, but सच क्या था यह बात कोई भी नहीं जानता था, उस लड़के का एक दोस्त था जो सभी कुछ जानता था but यह बात कहता तो उसे भी शायद पागल ही समझ जाता, इसलिए वह कोई भी बात नहीं कहता था, Bhoot story in hindi

यहां पर कोई भूत नहीं है कहानी

एक दिन उस लड़के का दोस्त गांव में घूम रहा था कुछ और भी दोस्त थे जो उसके साथ घूम रहे थे वह कहने लगे की पता नहीं मुखिया का लड़का कुछ अजीब बातें करता है शायद ऐसा लगता है की वह किसी से डरा हुआ है, but वह किस्से डरा हुआ है यह पता नहीं चल पा रहा है but यार हमे कुछ ऐसा पता है की जो शायद किसी को भी नहीं पता है जब तुम मुखिया के लड़के के साथ घूम रहे थे तब तक वह ठीक था but उसके बाद कुछ ऐसा हुआ था जिससे वह अजीब बातें करता था

दहशत की रात एक कहानी

हमे तो ऐसा लगता है जकी कुछ ऐसा हुआ है जो तुम्हे पता है मगर तुम किसी को भी बताना नहीं चाहते हो, जबकि ऐसा नहीं करना चाहिए तुम्हे जो भी पता है वह कह देना चाहिए, जिससे किसी को बात को समझने में आसानी मिले, but तुम हमेशा यही कहते हो की मुझे नहीं पता है but हमे नहीं लगता है की यह सच है, तुम्हे बताना होगा, की क्या बात है, अगर तुम नहीं बताते हो तो हम सभी गांव में यह बता देंगे की जब यह सब कुछ हुआ था तो तुम उसके साथ थे,

पता नहीं कौन था कहानी

वह कहने लगा की ऐसी कोई भी बात नहीं है में भी बताना चाहता हू but मेरी बात कोई भी नहीं मानेगा, इसलिए मेने किसी को भी नहीं बताया था जब सभी तुम पूछ रहे हो तो में भी बता देता हू, की उस दिन क्या हुआ था, यह शाम का वक़्त था, हम दोनों घूम रहे थे जैसा की तुमने देखा था, उसके बाद जब रात होने लगी, तो हमे पास के जंगल से एक रौशनी नज़र आ रही थी वह रौशनी क्यों नज़र आ रही थी यह हमे पता नहीं था, but हम पता भी नहीं करना चाहते थे

मेने उसे देखा था भूत कहानी

रात की आवाज का डर कहानी

क्योकि रात होने वाले थी, but मुखिया का लड़का कहने लगा की हमे देखना चाहिये की वह रौशनी कहा से आ रही है,  मेने उससे मना कर दिया था Because में रात के समय में उस जंगल में नहीं जाना चाहता था but वह बात को नहीं मान रहा था उसने कहा की एक बार चलकर देखते है उसके बड़ा हम नहीं जायँगे, उसके कहने पर सोचा की वह रौशनी को देखना चाहता है इसलिए उसे दूर से ही देखना चाहिए यह बात कहकर हम दोनों उस और चले गए थे, जब हम उस जगह पर पहुंचे तो वह रौशनी कही नज़र नहीं आ रही थी

डर की हिंदी कहानी

रात की घड़ी का डर भूत कहानी

मेने उससे कहा की अब हमे चलना चाहिए जिसे देखने आये थे वह नज़र नहीं आ रही थी अब यह अपर रुकने से कोई भी लाभ नहीं है हम वापिस चलने लगे थे but एक उड़ती हुई चीज मुखिया के लड़के के ऊपर आ गयी थी वह शायद कोई भूत हो सकता है, में वहा से भाग आया था but वह वही पर गिर गया था कुछ देर बाद जब वह आया तो कहने लगा की मेने वह पर कुछ देखा है, but वह साफ़ -साफ़ नहीं बता पा रहा था यह बात सबको बतायी जाती तो सभी लोग हस्ते, इसलिए किसी से भी नहीं बताया गया

शापित शेर की कहानी

भूत प्रेत की कहानी

Bhuton ki kahani, Bhoot story in hindi, पता नहीं है क्या सच है वह भूत है या कोई और चीज but जो भी है वह बहुत डरावनी है, इसलिए उस दिन के बाद वहा पर कभी भी नहीं गया था, अब तुम्हे पता चल गया होगा की क्या बता है अब चाहो तो तुम बता सकते है, यह कहानी कुछ अजीब है मगर जितना पता था वह बता चूका था, 

Read More Bhuton ki kahani :-

Read More-मैं यहां हू हिंदी कहानी

Read More-अब क्या करे भूत कहानी

Read More-घबराहट का सामना हिंदी कहानी

Read More-वहा कोई नहीं जाता हिंदी कहानी

Read More-आज भी इंतज़ार कर रहा है

Read More-कोई उन्हें देख रहा था कहानी

Read More-भूत होने का डर कहानी

Read More-हवेली का डर कहानी

Read More-अनजाने सफर की कहानी

Read More-अद्भुत घटनाएं

Read More-भूत की सच्ची कहानी

Read More-सुनसान रास्ते की एक घटना

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!