सच्ची ख़ुशी, new story in hindi with moral

new story in hindi with moral

सच्ची ख़ुशी का जीवन 

hindi story.jpg

new story in hindi with moral

मोरल कहानी, राजा शिकार करता हुआ काफी दूर जंगल में निकल गया था जब राजा ने पीछे मुड़कर देखा तो एक भी सैनिक उसे नजर नहीं आ रहा था राजा सोच रहा था कि मैं काफी दूर आ गया हूं और अब रात होने वाली है जब अंधेरा हो जाएगा तो मुझे कुछ भी दिखाई नहीं देगा राजमहल में वापिस जाना लगभग नामुमकिन था

 

तभी राजा की नजर एक झोपड़ी पर गई उस झोपड़ी में से रोशनी आ रही थी राजा ने सोचा कि चलकर देखना चाहिए वहां पर कौन रहता है जब राजा झोपड़ी के पास गया तो अंदर एक बुढ़िया बैठी हुई थी बुढ़िया खाने के लिए कुछ बना रही थी, राजा उस खाने की खुशबू से भूख भी लग रही थी क्योंकि राजा पूरे दिन से कुछ भी नहीं खा पाया था वह शिकार के चक्कर में काफी दूर भी निकाला गया था राजा नहीं झोपड़ी के अंदर जाने की जब इच्छा जताई

 

तो बढ़िया ने देखा कि बाहर कोई है बुढ़िया ने कहा कि कौन है जो बाहर खड़ा है राजा ने अपनी पहचान छुपाने की कोशिश की, जब राजा आया तो बढ़िया ने पूछा कि तुम कौन हो राजा ने कहा कि मैं एक राहगीर हूं जो रास्ता भटक गया हूं बुढ़िया ने कहा कि आज की रात यहां पर तुम आराम कर सकते हो बुढ़िया ने राजा के लिए खाना परोसा राजा ने जब वह खाना खाया तो उसे ऐसा महसूस हुआ कि उसने पूरे जीवन में ऐसा खाना कभी नहीं खाया था

 

राजा के सारे पकवान उस खाने के आगे फीके पड़ चुके थे राजा ने बुढ़िया से पूछा कि आप खाने में क्या डालती हो जिसे खाना बहुत ही स्वादिष्ट बन रहा है बुढ़िया ने कहा कि मेरे पास तो कुछ भी ऐसा नहीं है जो मैं खाने में डालती हूं बस मुझे तो यह पता है कि खाना बनाते वक्त हमेशा इंसान का मन शांत होना चाहिए और जब भी वह खाना बना रहा हो तो उसका खाना बनाने में मन होना चाहिए जब यह दोनों चीज इंसान के पास होती है तो खाना अपने आप ही अच्छा बनने लगता है राजा को आज वाकई में ऐसा महसूस हो रहा था कि उसे फिर से ज्ञान प्राप्त हुआ जो आज तक किसी को भी प्राप्त नहीं हो पाया था

 

मोरल कहानी, राजा समझ चुका था कि जब हमारा मन किसी काम में लगता है तभी हम उस काम को अच्छा कर पाते हैं और जब हमारा मन काम में नहीं लगता है तो हम उस काम को कर भी नहीं पाते हैं जब सुबह हुई तो राजा ने जल्दी ही जाने की कोशिश की और बढ़िया के पास बहुत सारी स्वर्ण मुद्राएं रखी और राजा वहां से चला गया जब राजा महल में पहुंचा तो उसने अपने रसोइयों को बुलाया और कहा कि आज के बाद से हमेशा खाना बिल्कुल सादा ही बनाना क्योंकि जो स्वाद सादे खाने में है वह किसी और चीज़ में नहीं है इसलिए इंसान को भी हमेशा सदा ही रहना चाहिए जितना सादा रहेगा उतना ही खुश भी रहेगा.

Read More Hindi Story :-

Read More-बीरबल की समझदारी

Read More-अकबर बीरबल की कहानी

Read More-अकबर का नया सवाल

Read More-बीरबल की नयी कहानियां

Read More-ढोंगी पुजारी की हास्य कहानी

Read More-घोड़े की हास्य कहानी

Read More-राजा और साधू की कहानी

Read More-एक शक्ल के दो आदमी एक कहानी

Read More- उसने की एक रोटी की मदद

Read More-ज्ञान की बातें एक कहानी

Read More-एक चोर की हिंदी कहानी

Read More-एक समझदारी की कहानी

Read More-समय पर नहीं आया एक कहानी

Read More-हास्य राजा की कहानी

Read More-राजा और भिखारी में बड़ा कौन

Read More-शापित शेर की कहानी

Read More-दो भिखारी की कहानी

Read More-एक सेवक की कहानी

Read More-मंगू की आदत की कहानी

Read More-बीमारी से मिला छुटकारा कहानी

Read More-पारस पत्थर की कहानी

Read More-मंजिल आपके सामने हिंदी कहानी 

Read More-एक अतिथि की कहानी

Read More-इनाम का लालच एक कहानी

Read More-हिंदी कहानी बारिश की बूंदे

Read More-राजा का वादा एक कहानी

Read More-राजा और माली की कहानी

Read More-एक अच्छी मदद की कहानी

Read More-सच्चे भक्त की कहानी

Read More-गरीब परिवार की कहानी

Read More-लालच एक कहानी

Read More-सच्ची सेवा की कहानी

Read More-साधू और शिष्य की मोरल कहानी

Read More-जीवन की सोच एक कहानी

Leave a Reply

error: Content is protected !!