गरीब परिवार की कहानी, ek parivar ki kahani

Ek parivar ki kahani 

परिवार की कहानी, एक परिवार (ek parivar ki kahani) में उसका लड़का और पिता दो ही लोग रहते थे, पिता अपने पुत्र की हर बात मानता था, क्योकि उसके परिवार में और कोई भी नहीं था, लड़के की शादी हुई थी, मगर अब उसकी पत्नी नहीं रही थी, उसकी पत्नी बीमारी के कारण ज्यादा समय तक जिन्दा नहीं रह पायी थी, उसके लड़के को कोई भी संतान नहीं थी,

गरीब परिवार की कहानी : ek parivar ki kahani

hindi story.jpg

ek parivar ki kahani

इसलिए अब दो ही लोग घर में थे,उसके पिता फलो का ठेला लगाते थे, हर रोज फल बेचने चले जाते थे, लड़का भी दूसरी place पर work करता था, दोनों ही लोग कुछ-न-कुछ कमाते थे जिससे उनका घर चलता था, हर रोज उसके पिता यही सोचा करते थे की हमारे घर में कोई भी नहीं है में और मेरा लड़का ही रहते है, कोई छोटा बालक भी नहीं है और घर में अकेलापन ऐसा लगता है की मानो अभी ही खाने को दौड़ने लगेगा,

जीवन की अच्छी बातें कहानी

ऐसा सोचते हुए एक दिन उसके पिता भी बीमार हो गए थे, लड़का अब बहुत परेशान रहने लगा था, अब father भी बीमार हो गए है, उनकी सेवा करने में ही लड़के का सारा दिन बीत जाता था, अब boy अपने काम पर भी नहीं जाता था, जिससे धीरे-धीरे उनका जमा हुआ money भी खत्म होने लगा था, जब भी लड़का अपने पिता से कहता था की में कुछ देर के लिए काम पर चला जायू तो पिताजी मना कर देते थे, उसके father अब बहुत ज्यादा बीमार हो गए थे, अब उनसे खड़ा भी होने में बहुत तकलीफ होती थी, वह अपने पिताजी की बीमारी से बहुत परेशान हो रहा था, क्योकि साड़ी responsibility उसी पर आ गयी थी, वह अपने work को लेकर भी परेशान था, वह जनता था की अगर वह work नहीं करेगा तो जो भी अब थोड़ा सा बचा हुआ है वो भी नहीं रहेगा, लेकिन वह कर भी क्या सकता था,

समय पर समझे हिंदी कहानी

बुराई से दूरी अच्छी कहानी

अगली सुबह वह मंदिर गया और अपने father की तबियत अच्छी हो जाए ऐसी प्राथना वह god से करने लगा, प्राथना करते हुए उसकी आँखों में आंसू थे, क्योकि उसके साथ रहने वाला सिर्फ उसके father थे और कोई भी नहीं था, भगवान् से की गयी सच्चे मन से प्राथना कभी खली नहीं जाती है, जब वह home गया तो उसके पिता जी खड़े हो कर धीरे-धीरे चल रहे थे, उन्हें खड़ा हुआ देखकर उसका boy बहुत खुश हो गया था,

समस्या कम हो सकती है कहानी

दोस्ती की नयी कहानी

परिवार की कहानी, ek parivar ki kahani, लड़के ने अपने पिताजी को बताया की यह सब कोई चमत्कार से कम नहीं है, god ने हमारी सुन ली थी, और कुछ दिन बाद उसके father ठीक हो गए थे, और दोनों लोग फिर से अपनी life में व्यस्त हो गए थे, यह बात भी सच है की जब आप ठीक होते है तो सब कुछ अच्छा लगता है लेकिन बीमार होने पर मन उदास ही रहता है, इसलिए life में हमेशा खुश रहे चाहे आप कितने भी उदास क्यों न हो, हमेशा मुस्कुराये.

Read More Hindi Story :-

बीरबल की समझदारी

अकबर बीरबल की कहानी

अकबर का नया सवाल

बीरबल की नयी कहानियां

ढोंगी पुजारी की हास्य कहानी

घोड़े की हास्य कहानी

राजा और साधू की कहानी

एक शक्ल के दो आदमी एक कहानी

उसने की एक रोटी की मदद

ज्ञान की बातें एक कहानी

एक चोर की हिंदी कहानी

एक समझदारी की कहानी

समय पर नहीं आया एक कहानी

हास्य राजा की कहानी

राजा और भिखारी में बड़ा कौन

शापित शेर की कहानी

दो भिखारी की कहानी

एक सेवक की कहानी

मंगू की आदत की कहानी

बीमारी से मिला छुटकारा कहानी

पारस पत्थर की कहानी

मंजिल आपके सामने हिंदी कहानी 

एक अतिथि की कहानी

इनाम का लालच एक कहानी

हिंदी कहानी बारिश की बूंदे

राजा का वादा एक कहानी

राजा और माली की कहानी

एक अच्छी मदद की कहानी

सच्चे भक्त की कहानी

Leave a Reply

error: Content is protected !!