एक चोर की हिंदी कहानी, Hindi Kahani

Hindi Kahani | Story in hindi 

Hindi Kahani, एक चोर की हिंदी कहानी, Story in hindi, सभी लोग उसके पीछे भाग रहे थे और वह उन लोगों से भी बहुत तेज भागने की कोशिश कर रहा था आखिरकार कुछ समय बाद लोगों ने उसे पकड़ ही लिया और पकड़ कर एक सेठ के पास लाए जब सभी लोग उसे पकड़कर सेठ के पास लगा रहे थे

एक चोर की हिंदी कहानी, Hindi Kahani

Hindi Kahani.jpg
Hindi Kahani

Hindi Kahani, story in hindi, तो उसे पीटते हुए ले जा रहे थे तभी सेठ ने कहा कि इसे छोड़ दो मैंने मारने को तो तुम्हें नहीं कहा था तुम उसे पीट क्यों रहे हो तो सभी लोगों ने कहा कि इसने चोरी की है सेठ बोला कि हां मैं जानता हूं इसने चोरी की है लेकिन इसमें इसका क्या दोष हो सकता हो सकता है इसे बहुत ज्यादा जरूरत है पैसों की,

 

चोर सेठ की तरफ देखने लगा वह सोचने लगा कि सेठ उसे बचाने की कोशिश क्यों कर रहा है जबकि उसने ही उसका बैग लेकर भागा था सेठ ने उस चोर को बुलाया और कहा कि तुम्हें ऐसा काम बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए तुम चोरी करते हो इससे सभी को दुख होता है और जिसका तुम समान लेकर जाते हो से कितनी परेशानी हो सकती है

 

तुम्हें इस बात का पता होना चाहिए तभी तुम एक अच्छे इंसान कहलाओगे सभी लोग वहां से चले गए थे सेठ ने उस चोर को बुलाया और कहा कि तुम्हें कोई काम करना चाहिए अगर तुम काम करते हो तो तुम्हारा मन काम में लगेगा चोर ने कहा कि मुझे कोई भी काम नहीं देता है तभी सेठ ने कहा कि तुम मेरे यहां पर काम करो मैं तुम्हें काम दूंगा तुम एक अच्छे इंसान बन जाओगे

 

Hindi Kahani, हिंदी कहानी, Story in hindi, चोर ने सेठ के पैर पकड़ लिया और कहा कि आज के बाद मैं चोरी नहीं करूंगा सेठ ने कहा तुम्हें ऐसा करने की कोई जरूरत नहीं है अगर तुम चाहते हो तो तुम अपने काम में ईमानदारी दिखाओ उतना तुम ईमानदार बनोगे उतना ही अच्छा इंसान भी बन जाओगे सेठ की वजह से वह जो सुधर गया था हमें जीवन में अच्छे काम करने चाहिए और दूसरों को भी अच्छे काम की ही नसीहत देनी चाहिए जिसमे उनका भी सुधार हो सके.

 

चोर और सेनापति की कहानी, Story in hindi

Hindi Kahani, Story in hindi, राजा को खबर हुई की नगर में कोई चोर घूम रहा है but अभी तक वह पकड़ा नहीं गया था इसलिए सेनापति को बुलाया जाता है जब सेनापति आते है, तो राजा ने बताया की उस चोर को जल्दी पकड़ा जाये but उस चोर को पकड़ना आसान नहीं था यह काम आसान होता तो वह चोर पकड़ा जा सकता था but राजा को इससे कोई मतलब नहीं था उन्हें तो जल्दी ही परिणाम की जरूरत थी,

राजा और साधू की कहानी

कुछ समय बाद सेनापति के पास एक आदमी आता है वह कहता है की मेरे घर में चोरी हो गयी है सेनापति उसके घर में जाते है तभी उनकी नज़र एक जूते पर गयी थी, वह एक जूता किसी का भी नहीं है इसका मतलब यह चोर का जूता है जब सेनापति को वह जूता नज़र आया तो उन्होंने बहुत ध्यान से उसे देखा था वह जूता बहुत अलग था Because उस जैसा जूता उस नगर में कोई भी नहीं पहनता है सेनापति उस जूते की तलाश करता है Because उससे वह चोर मिल सकता है

उसने की एक रोटी की मदद

बहुत खोजने पर भी सेनापति को कोई खबर नहीं मिली थी but एक जूते बनाने वाले ने बताया की यह जूता इस नगर में नहीं बनता है वह उस जगह का पता देता जिस जगह पर वह जूता मिल सकता है, सेनापति उस जगह पर जाता है उस जगह पर तो सभी ने वह जूते पहन रखे थे अब यह से चोर का पता लगाना मुश्किल था इसलिए सेनापति उस जगह से आ जाते है सेनापति ने सभी सैनिक को बताया था जो भी यह जूता पहने हुए मिले उसे पकड़ लिया जाए

एक शक्ल के दो आदमी एक कहानी

Hindi Kahani, Story in hindi, सैनिक ने सभी पर ध्यान देना शुरू कर दिया था तभी रत के समय एक घर में चोरी होती है वह चोर भगाता है but सैनिक को देखकर आराम से चलता है but सेनापति ने जो कहा था वह सैनिक कर रहे थे उसने वही जूते पहन रखे थे उसे पकड़ लिया जाता है राजा के सामने पेश किया जाता है अब राजा को सब कुछ पता चल गया था यह सेनापति की वजह से हुआ था अगर सेनापति बहुत होशियार हो तो सब कुछ पता चल जाता है

Read More Hindi Story :-

Read More-ज्ञान की बातें एक कहानी

Read More-एक चोर की हिंदी कहानी

Read More-एक समझदारी की कहानी

Read More-समय पर नहीं आया एक कहानी

Read More-हास्य राजा की कहानी

Read More-राजा और भिखारी में बड़ा कौन

Read More-शापित शेर की कहानी

Read More-दो भिखारी की कहानी

Read More-एक सेवक की कहानी

Read More-मंगू की आदत की कहानी

Read More-बीमारी से मिला छुटकारा कहानी

Read More-पारस पत्थर की कहानी

Read More-मंजिल आपके सामने हिंदी कहानी 

Read More-एक अतिथि की कहानी

Read More-इनाम का लालच एक कहानी

1 thought on “एक चोर की हिंदी कहानी, Hindi Kahani”

  1. chayan nath

    bohot acha or vi rajmahal ki kahania banao

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!