घोड़े की हास्य कहानी, funny stories in hindi

funny stories in hindi

घोड़े की हास्य कहानी

funny stories.jpg

funny stories in hindi

कॉमेडी और फनी स्टोरी इन हिंदी, एक आदमी के पास एक घोड़ा था वह उससे सारे काम लिया करता था लेकिन घोड़ा भी बहुत तेज था वह जानता था कि उसका मालिक उससे बहुत काम करवाता है इसलिए उसने एक दिन यह सोचा कि आज मैं उसका बताया हुआ कोई भी काम नहीं करूंगा मालिक उसके पास आया और कहने लगा कि आज हमें एक जगह जाना है

 

उसने उस घोड़े को कुछ खाने को दिया और कहा कि जल्दी खा लो अब हम थोड़ी देर में यहां से निकलने वाले हैं घोड़ा भी मन ही मन सोच रहा था कि आज तुम्हें पता लग जाएगा कि हमें परेशान करने के लिए जो तुमने हर बार काम बता बता कर मुझे बहुत दुखी कर रखा है इसके बाद तुम ऐसा नहीं करोगे

 

कुछ देर बाद आदमी घोड़े की पीठ पर बैठा हूं और जंगल के रास्ते पर चलने लगा कुछ ही दूरी पर पहुंचकर घोड़ा एकदम बैठ गया और आदमी ने कहा कि यहां पर बैठने की जरूरत नहीं है हमें और भी आगे जाना है लेकिन घोड़ा आगे बढ़ने को बिल्कुल भी तैयार नहीं हो रहा था आदमी ने घोड़े की ओर देखा तो उसे ऐसा लग रहा था कि घोड़ा बहुत थक चुका है

 

उसने सोचा कि मुझे घोड़े को थोड़ी देर आराम दे देना चाहिए और फिर उसके बाद चलना चाहिए घोड़ा भी बहुत तेज था आराम करने के बहाने वह बहुत देर तक सोता रहा उसके बाद आदमी उठा और कहा कि अब हमें चलना चाहिए आदमी उठा घोड़े की पीठ पर बैठा घोड़ा कुछ दूरी पर जाकर फिर बैठ गया अब आदमी को कुछ भी समझ में नहीं आ रहा था कि यह हो क्या रहा है

 

घोड़ा भी अपनी पूरी मनमानी कर रहा था वह अपने मालिक से परेशान हो चुका था इसलिए उससे बदला ले रहा था अब आदमी को बहुत गुस्सा आ गया था इसलिए उसने एक लकड़ी लेकर घोड़े को मारना शुरू कर दिया उसके बाद घोड़े की पीठ पर बैठा और आगे की ओर चलने लगा घोड़ा थोड़ी दूरी पर गया और मालिक को नीचे गिरा दिया मालिक का गुस्सा पूरी तरह से उस पर हावी हो गया था उसने उस घोड़े को पीटना शुरू किया उसके बाद घोड़ा आगे-आगे मालिक पीछे पीछे आखिरकार उस जगह पर दोनों पहुंच गए थे जहां उन्हें जाना था

 

लेकिन जाते वक़्त रास्ते भर घोड़ा आगे और आदमी पीछे दोनों भागते हुए आ रहे थे मालिक और घोड़े दोनों की शक्ल पर 12:00 बजे गए थे क्योंकि घोड़ा भी पीटते हुए आया हुआ था और मालिक भागते हुए दोनों थक गए और बैठ गए मालिक ने कहा कि इसके बाद मैं घोड़े पर नहीं बैठूंगा

 

कॉमेडी और फनी स्टोरी इन हिंदी, इसलिए जब वह दोनों वापस आ रहे थे तो मालिक घोड़े को पीटता हुआ घर ले जा रहा था कुछ दिन के बाद घोड़े को भी अकल आ गई थी वह मनमानी नहीं करेगा जिस तरह घोड़े में धीरे-धीरे सुधार होने लगा और मालिक भी समझने लगा कि मुझे भी इसके साथ कोई ज्यादा सख्ताई नहीं बरतनी चाहिए थी कुछ दिनों बाद घोड़ा ही नहीं मालिक भी सुधर गया था.

Read More Hindi Story :-

Read More-अकबर का नया सवाल

Read More-राजा और साधू की कहानी

Read More-एक शक्ल के दो आदमी एक कहानी

Read More- उसने की एक रोटी की मदद

Read More-ज्ञान की बातें एक कहानी

Read More-एक चोर की हिंदी कहानी

Read More-एक समझदारी की कहानी

Read More-समय पर नहीं आया एक कहानी

Read More-हास्य राजा की कहानी

Read More-राजा और भिखारी में बड़ा कौन

Read More-शापित शेर की कहानी

Read More-दो भिखारी की कहानी

Read More-एक सेवक की कहानी

Read More-मंगू की आदत की कहानी

Read More-बीमारी से मिला छुटकारा कहानी

Read More-पारस पत्थर की कहानी

Read More-मंजिल आपके सामने हिंदी कहानी 

Read More-एक अतिथि की कहानी

Read More-इनाम का लालच एक कहानी

Read More-ढोंगी पुजारी की हास्य कहानी

Read More-हिंदी कहानी बारिश की बूंदे

Read More-राजा का वादा एक कहानी

Read More-राजा और माली की कहानी

Leave a Reply

error: Content is protected !!
जीवन की सच्ची कहानी -Click Here
+