दुःखी जीवन की कहानी, sad story in hindi

sad story in hindi

दुःखी जीवन की कहानी

hindi story.jpg

sad story in hindi

दुःखी जीवन की कहानी,  घर में सिर्फ दो ही लोग रह गए थे उनका बेटा बाहर पढ़ने के लिए चला गया था दोनों माता-पिता यही सोचते थे कि जब बेटा पढ़ाई करके वापस आएगा तब हम उसके साथ अपना जीवन व्यतीत करेंगे लेकिन हर बार सोचा हुआ सही नहीं होता है जब बेटा पढ़ाई करके वापस आया तो उसने अपने माता-पिता से कहा कि मैंने पढ़ाई के साथ-साथ वहां पर शादी कर ली है

 

जब यह बात उसके माता-पिता ने सुनी तो उन्हें बहुत ही बड़ा झटका लगा क्योंकि वह इस बात की कोई भी उम्मीद नहीं रख रहे थे जब अचानक यह बात पता चलती है जो कि उन्होंने नहीं सोचा था तो बहुत ही बुरा लगता है लेकिन अब किया भी क्या जा सकता था जबकि उसने शादी कर ली थी तो अब उन्हें स्वीकारना ही पड़ेगा

 

उनकी किस्मत में शायद ऐसा ही होना लिखा था माता पिता का जीवन बुढ़ापे की ओर जा रहा था जिसका सहारा वही लड़का था जब लड़का घर के अंदर आया तो साथ में अपनी बहू को भी लेकर आया लड़के ने बताया है कि जब मैंने पढ़ाई पूरी कर ली थी तो उसके बाद मुझे एक कंपनी में जॉब मिली है और मुझे 10 दिन के बाद उस जॉब को ज्वाइन करना है

 

माता-पिता एक के बाद एक झटका सहन कर रहे थे क्योंकि वह तो यह सोच रहे थे कि जब हमारा लड़का हमारे पास आएगा तो हम उसके साथ अपना जीवन व्यतीत करेंगे लेकिन अब तो सब कुछ बिखरा हुआ सा नजर आ रहा है 2 दिन बाद लड़के ने वहां से जाने की इच्छा जाहिर की, माता-पिता दोनों ही चुप थे, क्योंकि जैसा सोचा था वैसा कुछ भी नहीं हुआ

 

लड़का अपनी बहू के साथ वापस वही चला गया अपने लड़के की इंतजार में उन्होंने 7 साल बिता दिए और वह 7 दिन भी वह नहीं रुका जितनी उम्मीद हमें होती है लेकिन वह उम्मीदें कभी भी खरी नहीं उतर पाती, जैसा जीवन माता पिता का चल रहा था वैसा ही चलता रहा अब वह फिर से अकेले हो गए थे 2 दिन की खुशी के बाद अब फिर से गमों के बादल छा गए थे

 

शायद हमें ऐसा लगता है कि जीवन में ऐसी समस्याएं आती ही रहती हैं और उन समस्याओं को जीने के लिए शायद भगवान ही हमें शक्ति देता है दोनों माता-पिता यही सोच रहे थे कि कभी तो हमारे दुख के बादल दूर हो जाएंगे इस इंतजार में उन्होंने अपना पूरा बुढ़ापे का जीवन व्यतीत कर दिया था

 

दुःखी जीवन की कहानी, लड़का उस दिन के बाद कभी घर नहीं आया और ना ही उसने इस बात की जरूरत समझी कि उसके माता पिता वहां पर कैसे हैं होनी को तो कोई नहीं टाल सकता लेकिन हम अपने जीवन में बहुत कुछ बदलाव करके अपनी परेशानियां दूर कर सकते हैं इसलिए हमें अपने जीवन में बहुत ज्यादा उम्मीदें कभी नहीं करनी चाहिए क्योंकि जब उम्मीदें पूरी नहीं होती है तो बहुत दुख होता है.

Read More Hindi Story :-

Read More-बीरबल की समझदारी

Read More-अकबर बीरबल की कहानी

Read More-अकबर का नया सवाल

Read More-बीरबल की नयी कहानियां

Read More-ढोंगी पुजारी की हास्य कहानी

Read More-घोड़े की हास्य कहानी

Read More-राजा और साधू की कहानी

Read More-एक शक्ल के दो आदमी एक कहानी

Read More- उसने की एक रोटी की मदद

Read More-ज्ञान की बातें एक कहानी

Read More-एक चोर की हिंदी कहानी

Read More-एक समझदारी की कहानी

Read More-समय पर नहीं आया एक कहानी

Read More-हास्य राजा की कहानी

Read More-राजा और भिखारी में बड़ा कौन

Read More-शापित शेर की कहानी

Read More-दो भिखारी की कहानी

Read More-एक सेवक की कहानी

Read More-मंगू की आदत की कहानी

Read More-बीमारी से मिला छुटकारा कहानी

Read More-पारस पत्थर की कहानी

Read More-मंजिल आपके सामने हिंदी कहानी 

Read More-एक अतिथि की कहानी

Read More-इनाम का लालच एक कहानी

Read More-हिंदी कहानी बारिश की बूंदे

Read More-राजा का वादा एक कहानी

Read More-राजा और माली की कहानी

Read More-एक अच्छी मदद की कहानी

Read More-सच्चे भक्त की कहानी

Read More-गरीब परिवार की कहानी

Read More-लालच एक कहानी

Read More-सच्ची सेवा की कहानी

Read More-साधू और शिष्य की मोरल कहानी

Read More-जीवन की सोच एक कहानी

Read More-सच्ची ख़ुशी का जीवन 

Read More-दानवीर की कहानी

Leave a Reply

error: Content is protected !!