अकबर और नगर की कहानी, akbar ki kahani

Akbar ki kahani

अकबर और नगर की कहानी, akbar ki kahani, यह कहानी अकबर और बीरबल की है जब वह नगर में जाते है तो उन्हें पता चलता है की नगर में कौन सी समस्या है जिसका पता उन्हें चल जाता है और वह उस समस्या को दूर कर देते है, यह कहानी आपको पसंद आएगी, 

अकबर और नगर की कहानी : akbar ki kahani

akbar kahani.jpg

akbar ki kahani

आज अकबर और बीरबल अपने नगर में जाकर यह देखना चाहते थे की हमारे नगर में कोई समस्या तो नहीं हो रही है, इसलिए दोनों साथ में नगर में चलाए गए थे मगर वह अपनी वेशभूषा को बदल चुके थे, जिससे उन्हें कोई भी पहचान नहीं पाए, जब वह नगर में गए तो देखा की बहुत से लोग उन्हें खुश नज़र आ रहे थे, मगर कुछ जगह पर ऐसा नहीं था, वह उस जगह पर गए और देखा की वहा पर क्या बाते हो रही है,

Read More-बकरी की नयी हिंदी कहानी

वह उन सभी की बाते सुनने के लिए वही पर बैठ गए थे, कुछ लोग बाते कर रहे थे की ऐसा नहीं होना चाहिए था, राजा को सोचना चाहिए की हम प्रजा है और हमारी समस्या भी बहुत अधिक है अगर ऐसा ही चलता रहा तो हम बहुत अधिक परेशानी में आ जाएंगे, मगर राजा को परेशानी समझ नहीं आ रही थी की वह क्या बात है, बीरबल ने पूछा की आप किस समया की बात कर रहे है वह आदमी कहने लगा की कल हम राजा से मिलने गए थे मगर राजा के पास हमारे लिए समय नहीं था, हम सभी काफी इंतज़ार करके चले गए थे,

Read More-राजा और भिखारी में बड़ा कौन

हम दरबान से भी पूछा था, मगर वह कहने लगे की अगर आपको बहुत जल्दी ही मिलना है तो आप हमे कुछ धन दे दीजिये जिससे हम राजा से जल्दी ही मिलवा देंगे, मगर ऐसा नहीं था हमे तो ऐसा ही लग रहा था की यह सभी धन राजा ने अपने लिए जमा करवाया होगा जिससे वह हमसे भी धन कमा सके, ऐसा भी होता है क्या, क्या राजा ऐसा करते है, राजा कर बीरबल उनकी बाते सुन रहे थे मगर उन्हें समझ नहीं आ रहा था की किसने यह धन की मांग की थी, राजा ने बीरबल से कहा की जल्दी ही पता लगाया जाए, की यह कौन कर रहा है,

Read More-पारस पत्थर की कहानी

Read More-राजा की अच्छाई की कहानी

बीरबल और राजा महल की और वापिस चल दिए थे, साथ में अकबर यह भी कह रहे थे की हमे यह पता नहीं है की हमारे दरबार के बाहर क्या होता है, हमे तो ऐसा ही लगता है की सब ठीक ही होगा हमे यह नहीं पता है की बहुत से लोग हमसे परेशान है, वह हमसे मिलने भी आये थे और चले भी गए जबकि उनमे से कोई भी नहीं मिला था हमारी प्रजा दुखी हो ऐसा नहीं होना चाहिए जल्दी ही पता लगाना चाहिए, बीरबल ने कहा की हम जल्दी ही सब पता कर पाएंगे,

Read More-इनाम का लालच एक कहानी

Read More-राजा के उपहार की कहानी

अगले दिन बीरबल भी वेशभूषा बदल कर दरबार के बाहर खड़े हो गए थे उन्हें भी राजा से मिलना था वहा पर दरबान कहने लगा की अगर जल्दी ही मिलना चाहते हो तो मुझे थड़ा सा धन दे दो, में जल्दी ही इसका इंतज़ाम करवा देता हु, बीरबल ने कहा की अगर ऐसा हो सकता है तो बहुत अच्छा है दरबान ने कहा की यह हो सकता है मगर बीरबल ने कहा की में तुम्हे धन दूंगा मगर इसका पता कैसे लगेगा की में राजा से जल्दी मिल लूंगा,

Read More-मंगू की आदत की कहानी

दरबान कहने लगा की हम कह रहे है मगर बीरबल ने कहा की मुझे यकीन नहीं है तुम्हे मुझे दरबारा तक छोड़ना होगा, दरबान कहने लगा की ठीक है पहले मुझे धन दीजिये फिर चलता हु, बीरबल ने उसे धन दिया और साथ में दोनों चलने लगे थे जब दरबार आया तो बीरबल ने सैनिक से कहा की इसे अंदर ले आओ और बाद में सैनिक और दरबान ने देखा की यह तो बीरबल है, राजा को भी पता चल चूका था की किसने यह सब किया था उसके बाद उसे सजा दी गयी थी क्योकि उसने प्रजा को दुखी किया था

Read More-राजा का वादा एक कहानी

Read More-राजा और माली की कहानी

Read More-एक अच्छी मदद की कहानी

Read More-शिक्षक की नयी सीख

यह सब कुछ बीरबल की वजह से हुआ था, अकबर भी समझ गए थे की अगर बीरबल कुछ नहीं सोचते तो कैसा होता, यह सब कुछ बीरबल की वजह से हुआ था, अकबर और नगर की कहानी, akbar ki kahani, अगर आपको यह कहानी पसंद आयी है तो आप इसे शेयर जरूर करे और कमेंट करके हमे भी बताये,   

Read More Hindi Story :-

Read More-बीरबल और सेनापति की कहानी

Read More-बच्चों की पाठशाला

Read More-अकबर बीरबल की कहानी

Read More-बीरबल की समझदारी

Read More-अकबर का नया सवाल

Read More-बीरबल की नयी कहानियां

Read More-ढोंगी पुजारी की हास्य कहानी

Read More-घोड़े की हास्य कहानी

Read More-राजा और साधू की कहानी

Read More-एक चोर की हिंदी कहानी

Leave a Reply

error: Content is protected !!
अकेलापन एक कहानी -Click Here
+