jadui chakki ki new kahani and jadui chakki story- जादुई चक्की की नई कहानी

jadui chakki ki new kahani and jadui chakki story

जादुई चक्की की नई कहानी (jadui chakki ki new kahani) जब एक आदमी जंगल में लकड़ियां काटने जा रहा था तभी उसकी नजर एक जादुई चक्की पर पड़ती है लेकिन वह इस बात को नहीं जानता है कि वह जादुई चक्की (jadui chakki) है वह उसके पास जाता है वह सोचता है कि यह चक्की कहां से आई है जब वह आदमी ध्यान से देखता है तो वह सूरज की रोशनी में चमक रही होती है

jadui chakki ki new kahani and jadui chakki story

jadui chakki ki new kahani

jadui chakki ki new kahani

क्योंकि वह सोने की चक्की (chakki) थी वह आदमी खुश हो जाता है और सोचता है कि सोने से बनी चक्की यह मेरे बहुत काम आ सकती है इसलिए चक्की को लेकर अपने घर पर जाता है और अपनी पत्नी से कहता है कि आज मुझे एक सोने की चक्की (chakki) मिली है पत्नी कहती है यह तो बहुत अच्छी बात है कि हमें सोना मिल गया है लेकिन इसे हम बेच नहीं सकते हैं अगर हम इसे बेचते हैं तो कोई भी आदमी हमसे यह पूछ सकता है कि यह सोने की चक्की तुम्हारे पास कहां से आई है

राजा और भिखारी में बड़ा कौन

इसलिए हमें इसका प्रयोग करना होगा वह आदमी उस चक्की को देखता है और सोचता है कि यह हमारी किस काम आ सकती है तभी वह चक्की (chakki) को घुमाने की कोशिश करता है और मन में उसके बहुत सारे सवाल चल रहे होते हैं उन्हीं सवालों में से एक सवाल यह भी था कि अगर मेरे पास बहुत सारा खाना आ जाता है तो आज मैं भरपेट खाऊंगा जब आदमी इस बात को सोचकर चक्की को चलाता है तो चक्की उसके लिए बहुत सारा खाना आता है यह देखकर आदमी बहुत खुश हो जाता है और सोचता है कि यह सोने की तो बनी है लेकिन साथ ही यह जादुई चक्की भी है

जादुई नहर की कहानी

मुझे ऐसा लगता है कि है जादुई चक्की (jadui chakki) हमारे बहुत काम आ सकती है अब पत्नी भी बहुत खुश हो चुकी थी क्योंकि वह जादुई चक्की (jadui chakki) सोने की बनी हुई थी और दूसरी बात यह थी कि वह उनके लिए खाना भी ला सकती थी और बहुत सारे सामान भी जिनकी जरूरत उन्हें पड़ सकती थी उसके बाद उसकी पत्नी ने बहुत सारे चीजों को अपने घर पर मंगवा लिया था उसने मन में बहुत सारे फर्नीचर के बारे में सोचा था वह सारा फर्नीचर भी आ चुका था

 

जिस तरह पत्नी सोचती चली गई और चक्की को घुमाते चली गई उसी तरह उनका घर सभी सामान से भर चुका था अब उन्हें किसी भी सामान की जरूरत नहीं थी पति-पत्नी का जीवन एकदम से बदल गया था कहां पर वह गरीबी का जीवन व्यतीत कर रहे थे और अचानक वह अमीर बन गए थे यह बात सोचकर आदमी बहुत खुश हो गया था उसको पता चला था कि अगर आज मैं जंगल में ना जाता और लकड़ियां काटने की कोशिश ना करता तो शायद मुझे यह चक्की जीवन में कभी भी नहीं मिलती है एक जादुई चक्की (jadui chakki) है पत्नी ने कहा कि इस बात की खबर किसी को नहीं होनी चाहिए कि हमारे पास एक जादुई चक्की (jadui chakki) है

बकरी की नयी हिंदी कहानी

जो बहुत कुछ कर सकती है अगर किसी को इस बारे में पता चल जाता है तो वह हमारी चक्की ले सकते हैं इसलिए हमें यह बात किसी को नहीं बतानी आदमी भी इस बात को अच्छी तरह जानता था आदमी ने बहुत सारा कर्ज ले रखा था जो कि उसे साहूकार को चुकाना है साहूकार के पास जाता है और अपना सारा कर्ज चुका देता है या देखकर साहूकार भी सोचता है क्योंकि साहूकार इस बात को जानता है कि यह आदमी कभी भी मेरा कर्ज नहीं चुका सकता है

राजा की अच्छाई की कहानी

क्योंकि इसके पास इतना धन कहां से आया होगा यह बात साहूकार के मन में चल रही थी लेकिन उस आदमी ने साहूकार को कुछ भी नहीं बताया था रात हो चुकी थी और साहूकार उस आदमी के घर पर चला गया था जिससे कि वह पता कर पाए यह आदमी कहां से इतना सारा धन लेकर आया है जिससे कि मेरा सारा धन चुका दिया साहूकार ने देखा कि उनके पास एक सोने की चक्की (chakki) है वह सोने की चक्की देख कर चौक गया और सोचने लगा कि यह चक्की (jadui chakki) इनके पास कैसे आ सकती है यह तो सोने की बनी है

इनाम का लालच एक कहानी

साहूकार कुछ देर रुकता है और देखता है कि यह लोग क्या करते हैं तभी साहूकार देखता है कि उस चक्की को वह लोग घुमा रहे थे और हर एक समान घर में ला रहे थे खाने की व्यवस्था भी उन्होंने आसानी से कर देती है देखकर साहूकार चौक गया सोचने लगा कि यह चक्की तो मेरे पास होनी चाहिए इनके पास यह चक्की (chakki) क्या कर रही है आज तो साहूकार ने देख लिया था कि वह आदमी क्या कर रहा है और किस प्रकार सामान बना रहा है

पारस पत्थर की कहानी

लेकिन साहूकार उस चक्की को लेना चाहता था इसलिए साहूकार के मन में यह विचार चल रहा था कि उस चक्की को कैसे भी प्राप्त किया जाए अगली रात को साहूकार उनके घर पर जाता है वह जब है सो रहे होते हैं तो वह चक्की को चुरा कर ले जाता है जब साहूकार अपने घर पर हो चक्की (jadui chakki) को लेकर आता है और घुमाने के बाद धन की मांग करता है तो चक्की कुछ भी नहीं देती है यह देखकर साहूकार को बहुत गुस्सा आता है और कहता है कि यह चक्की किसी काम की नहीं है

राजा के उपहार की कहानी

मुझे तो ऐसा लगता है कि वह लोग पता नहीं इसका प्रयोग कैसे कर रहे हैं क्योंकि मैं तो धन मांग रहा हूं यह तो मुझे कहीं भी ध्न नहीं दे रही है कुछ देर बाद ही वह चक्की (jadui chakki) बोलती है कि तुम लालची हो जितना तुम लालच करते हो उतनी ही तुम लालची बनते जाते हो इसलिए तुम्हारी कोई भी मनोकामना पूरी नहीं हो सकती हो इस प्रकार चक्की वहां से गायब हो जाती है साहूकार सोचता है कि यह मेरे लालच की वजह से हुआ है क्योंकि वह लोग तो चक्की (chakki) से धन नहीं मांग रहे थे लेकिन वह सभी सामान् मांग रहे थे

Jadui chakki ki new kahani | jadui chakki story

लेकिन मुझे ऐसा लगता है कि धन की मांग नहीं की होगी इस प्रकार साहूकार को लगता है कि उससे गलती हो गई है लेकिन जब अगले दिन ही साहूकार उनके घर फिर से जाता है तो देखता की चक्की वहीं पर अब साहूकार को समझ में आ जाता है कि उसका लालच ही चक्की को गायब करवा चुका था और वह लालची नहीं है इसलिए चक्की उन्हीं के पास है अगर आपको यह जादुई चक्की की नई कहानी, jadui chakki ki new kahani and jadui chakki story पसंद आई है तो आगे भी शेयर करें कमेंट करके हमें बताएं

Read More Hindi Story :-

बीरबल और सेनापति की कहानी

बच्चों की पाठशाला

अकबर बीरबल की कहानी

बीरबल की समझदारी

अकबर का नया सवाल

बीरबल की नयी कहानियां

ढोंगी पुजारी की हास्य कहानी

घोड़े की हास्य कहानी

राजा और साधू की कहानी

एक चोर की हिंदी कहानी

मंगू की आदत की कहानी

राजा का वादा एक कहानी

एक अच्छी मदद की कहानी

शिक्षक की नयी सीख

आसमान का रंग कहानी

Leave a Reply

error: Content is protected !!
+