Bhoot wali kahani Woh Phir Aayegi | Bhoot ki kahani

Bhoot wali kahani Woh Phir Aayegi | Bhoot ki kahani

जब से तुमने भी bhoot wali kahani सुनी है तुम बहुत ज्यादा डर हुए लग रहे हो उस कहानी में ऐसा क्या है जिससे कि तुम बहुत ज्यादा डर गए हो तभी वह आदमी कहता है कि मैंने इस kahani में यह बात सुनी है कि वह फिर से आएगी यानी कि वह भूत वाली कहानी (bhoot ki kahani) सच हो जाएगी

Bhoot wali kahani Woh Phir Aayegi

bhoot wali kahani
bhoot wali kahani

हम तो इस बात को भी नहीं जानते हैं कि वह कौन है जो दोबारा फिर से आएगी इस kahani में एक spirit के बारे में बताया जाता है कि मैं फिर से आएगी जब से वह bhoot wali kahani सुनी है मुझे तो बहुत ज्यादा डर लग रहा है अभी तो हमें घर भी जाना है रात हो चुकी है और यह kahani सुनकर इतना अधिक डर लग रहा है कि रात में अपने घर कैसे पहुंचा जाए यह बात सोच कर भी जाने का मन नहीं कर रहा है

 

वह दोनों रात में bhuto वाली बातों को करते हुए आगे बढ़ते हैं उन्हें ऐसा लगता है कि जो उन्होंने bhoot wali kahani सुनी थी उसे सुनने के बाद उनके अंदर डर बहुत ज्यादा बैठ गया है उसने जब हमें bhoot wali kahani सुनाई थी तो उस kahani में एक बात यह भी कही थी कि वह spirit फिर से आएगी यानी कि उस समय वह spirit वहां से चली गई थी और किसी को नजर नहीं आए थे लेकिन मुझे ऐसा लगता है कि वह फिर से नजर आएगी

अब क्या करे भूत कहानी

तभी दूसरा आदमी कहता है कि तुम इस बारे में कुछ नहीं सोचना चाहिए और चुपचाप अपने घर चलते रहना चाहिए जितना हम bhoot wali kahani के बारे में सोचेंगे उतना ही हमें डर लगेगा इसलिए हमें इस बारे में कोई ध्यान नहीं देना है और आगे बढ़ते रहना चाहिए जिससे कि हम अपने home पर safe पहुंच सके मुझे ऐसा लगता है कि तुम सही कह रहे हो क्योंकि जितना हम उस bhoot wali kahani के बारे में सोच रहे हैं ना उससे हमें बहुत ज्यादा डर लग रहा है

घबराहट का सामना हिंदी कहानी

हम उस बारे में नहीं सोचेंगे तो ही अच्छा होगा इस तरह की बातें करते हुए गया अपने घर की ओर जा रहे थे तभी उनमें से एक ने कहा कि उस park में देखो एक सीट पर कोई बैठा है दूसरा आदमी भी देखता है और कहता है कि हां कोई बैठा तो है लेकिन रात के समय में park में कौन बैठा होगा हमें उसे कहना चाहिए कि तुम्हें अपने घर चले जाना चाहिए अब रात हो चुकी और रात में stay safe नहीं है तुम सही कह रहे हो हम उसके पास जाना चाहिए और इस बारे में बात करनी चाहिए दोनों आदमी उस park में जाते हैं और देखते हैं कि उस सीट पर जो आदमी बैठा हुआ तो वहां पर कोई नहीं था

मैं यहां हू हिंदी कहानी

उन दोनों को इस बात पर बिल्कुल भी यकीन नहीं हो रहा था क्योंकि कुछ देर पहले वहां पर कोई बैठा था और कोई भी रास्ता बाहर निकलने का नहीं है और यह इतना बड़ा park भी नहीं है कि आप यहां से आसानी से निकल जाएं और आपको कोई देख ना पाए मुझे तो ऐसा लगता है कि वह कोई bhoot होगा जो अचानक ही गायब हो गया क्योंकि यहां से निकलना इतना आसान नहीं है और अगर कोई निकलता भी है तो यही एक रास्ता है जिससे हम होकर आए हैं

यहां पर कोई भूत नहीं है कहानी

यहां पर तो कोई भी नजर नहीं आ रहा तभी दूसरा आदमी कहता है कि वह देखो वह वहां पर बैठा हुआ है वहीं दूसरी सीट है हमें उसके पास वहां जाना चाहिए लेकिन जब उन्होंने बाहर से देखा था तो वह इस सीट पर बैठा था वह दोनों उसके पास जाने लगते हैं तभी उनकी नजर पीछे की ओर जाती है और जैसे ही पीछे देखते हैं तो कोई voice ऐसी होती है जिसके कारण उन्हें पीछे देखना पड़ा था लेकिन जैसे ही आगे देखते हैं वह आदमी फिर से गायब हो जाता है

भूत होने का डर कहानी

कुछ बात समझ में नहीं आ रही है वह आदमी कहां चला गया हैं तभी दूसरा आदमी कहता है हमें इस बारे में कोई notice नहीं करना है हमें अपने home पर जाना चाहिए और जो भी होगा वह अपने आप घर चला जाएगा हमें उसके पीछे जाने की जरूरत नहीं है वह दोनों काफी डर चुके थे उन्हें लग रहा था कि जो आदमी अचानक गायब हो रहा है वह हमारे साथ में ना आ जाए इसलिए वह जल्दी से उस park से निकल गए थे और अपने home की ओर जा रहे थे

कोई उन्हें देख रहा था कहानी

तभी पीछे से आवाज आती है कि तुम अकेले कहां जा रहे हो वह बात सुनकर दोनों डर जाते हैं और पीछे की ओर देखते हैं तो कोई भी नजर नहीं आता है तभी वह दोनों कहते हैं कि लगता है वह bhoot हमारे पीछे आ गया हमें यहां से निकल जाना चाहिए था किस बात का उन्हें डर था वह सच हो गई थी इसलिए तेजी से अपने home की ओर जा रहे थे वह home पर पहुंच कर उन्होंने अपना दरवाजा बंद कर लिया था और सोने की तैयारी करने लगे थे कुछ देर बाद गए फिर से उठते हैं और अपनी खिड़की से नीचे देखते हैं

एक हॉरर हिंदी कहानी

तो वह आदमी वही पर ही खड़ा था लेकिन कोई आदमी नहीं था क्योंकि उसके आर पार देखा जा सकता था उन्हें समझ में आ गया था कि यह कोई आदमी नहीं एक spirit है और उस bhoot wali kahani को जब से हमने सुना है bhoot भी हम नजर आने लगा अब बहुत ज्यादा डर लग रहा है इसलिए हम इस बारे में कोई बात नहीं करेंगे और वे सो जाते हैं

Bhoot wali kahani | Bhoot ki kahani

वह bhoot अंदर तो नहीं आता है लेकिन जब सुबह होती है तो कुछ भी उन्हें नजर नहीं आता वे समझ जाते हैं कि शायद वह चला गया होगा लेकिन इस बात को समझ गए थे कि bhuto की बातें करना भी बेकार ही होता है क्योंकि वह हमें नजर आने लगते हैं

 

भूत का सच हिंदी कहानी

Bhoot ki kahani, यह भूत वाली कहानी एक गांव की है वह गांव वाले इस बात को मानते हैं कि भूत होते हैं इसलिए उन्होंने इस बारे में पता लगाया था कि एक पेड़ पर भूत रहता है उस पेड़ पर कोई भी नहीं चढ़ सकता है क्योंकि वहां पर एक भूत रहता है यह बात सभी गांव वालों को पता थी किसी ने भूत के बारे में सुन रखा था जिसकी वजह से उन्हें ऐसा लग रहा था कि इस पेड़ पर भूत रहता है

वह अजीब रास्ता कहानी

यह उस दिन की बात है जब आदमी उस रास्ते से जा रहा था तभी उसने कोई आवाज सुनी वह आवाज किसकी हो सकती है उस पेड़ के पास से रोशनी आ रही थी जिसकी वजह से वह सोच रहा था कि इस पेड़ के पास कोई भूत रहता है जिसकी वजह से यहां पर रोशनी हो रही है कोई भी इस बात को नहीं जानता था कि वह कहां पर हो सकता है but सभी इस बात का पता लगा चुके थे कि वह भूत इस पेड़ के पास रहता है उसी गांव में एक आदमी शहर से आया था जब उसे इस बात का पता लगा तो उसने इस बात पर यकीन नहीं किया था

हवेली का डर कहानी

क्योंकि वह किसी भी भूत को नहीं मानता था but गांव वाले कहते थे कि यहां पर भूत है तो उसे लगता था कि शायद इस बात का पता लगाना चाहिए कि वह भूत कौन सा है जिसके बारे में गांव वाले बात कर रहे हैं सभी गांव वालों ने उससे कहा कि तुम्हें वहां पर नहीं जाना चाहिए but वह कहने लगा कि वहां पर कोई भूत नहीं है रात का समय हो रहा था सभी गांव वाले रास्ते से दूर खड़े हुए देख रहे थे और वह आदमी उस पेड़ के पास जा रहा था तभी उस आदमी ने देखा कि एक चोर उस पेड़ के पास अपना धन छुपा रहा है

समय बदल नहीं रहा है

वह बात को जानता था कि यहां पर भूत रहता है गांव वाले हमेशा ही जानते हैं इसलिए कोई भी इस पेड़ के पास नहीं आएगा और मैं अपना धन यहां पर छुपा सकता हूं उसने उस आदमी को देखा और भागने की कोशिश करने लगा तभी उसने उस चोर को पकड़ लिया और गांव वालों के सामने पेश किया और बताया कि यह चोर है यह अपना धन छुपा रहा था और तुम इसे भूत समझ रहे थे अब गांव वालों को पता चल चुका था कि उस पेड़ के पास कोई भूत नहीं है

Bhoot wali kahani | Bhoot ki kahani

इसलिए कोई भी उस पेड़ से नहीं डरता था हमें सच्चाई का पता नहीं होता तब तक हम उस सच्चाई से अनजान रहते हैं और जब हमें पता चल जाता है तो हम सब कुछ समझने के लिए तैयार रहते हैं जीवन में कभी भी उन बातों पर विश्वास नहीं करना चाहिए जिनको आपने सुना है इसमें कितना सच है यह कोई नहीं जानता हैं.

Read More Ghost Story Hindi :-

अनजाने सफर की कहानी

अद्भुत घटनाएं

भूत की सच्ची कहानी

सुनसान रास्ते की एक घटना

भूतों की कहानी

शापित शेर की कहानी

रात की आवाज का डर कहानी

रात की घड़ी का डर भूत कहानी

भूत प्रेत की कहानी

पता नहीं कौन था कहानी

दहशत की रात एक कहानी

मेने उसे देखा था भूत कहानी

डर की हिंदी कहानी

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!