चिंता न करे एक कहानी, short stories in hindi

short stories in hindi | Hindi stories

चिंता न करे एक कहानी, short stories in hindi, इस कहानी (Hindi stories) में एक लड़का घर से सामान लेने जाता है मगर वह वापिस नहीं आता है, उसके परिवार को बहुत चिंता होती है, वह उसे देखने जाते है, ( Short hindi stories) मगर पता नहीं चलता है, (short stories hindi) तभी वह अपने पड़ोसी को बताते है,

चिंता न करे एक कहानी : short stories in hindi

short stories.jpg

short stories in hindi

हमारे पड़ोसी की आवाज लग रही है, यह इतनी रात को क्यों आये है हमे चलकर पूछना चाहिए, पत्नी ने कहा की ठीक है हमे चलकर देखना होगा, (short stories in hindi) दोनों ने दरवाजा खोला तो उनके पड़ोसी आये हुए थे आप इतनी रात को क्यों आये है उनका कहना था, की उन्हें बहुत परेशानी लग रही है, क्योकि आज बहुत समय हो गया है (short stories hindi) अभी तक कुछ भी पता नहीं चला है वह किस बारे में बात करे है, कुछ भी समझ नहीं आ रहा है क्योकि वह बहुत ही हड़बड़ी में कुछ कह रहे है, हमने कहा की आप पहले शांत हो जाए तो अच्छा होगा

 

वह कुछ देर तक चुप रहे और कहने लगे की हम बहुत परेशान लग रहे है हमारा बेटा कल शाम से वापिस नहीं आया है हमे यही लग रहा था की शायद वह किसी दोस्त के पास होगा मगर ऐसा कुछ नहीं था वह किसी भी दोस्त के पास नहीं था हमने सभी जगह पर पूछ लिया है हम यहां पर किसी और को जानते भी नहीं है इसलिए आपसे कहने आये है आप हमारी मदद कीजिये, हमने भी यही कहा की आप चिंता न करे हम अपनी पूरी कोशिश करेंगे

 

हमारे पड़ोसी और हम दोनों ही साथ में घर से बाहर निकल गए थे जिस जगह पर वह जा सकता था वही पर हम रात में खोजने निकल गए थे, हमने सभी जगह खोजा था, उसके बाद हम दोनों उस जगह पर गए थे जिस जगह पर उसका दोस्त रहता था शाम के समय उसने ही उसे देखा था उसके पास गए तो हमने यही पूछा की वह क्या कह रहा था, किस और जाने की बात बता रहा था अगर तुम कुछ भी पता है तो हम उसे ढूढ़ सकते है, उसने कहा कि मुझे तो बस इतना ही पता है की वह यही बात कह रहा था की अब मुझे कुछ सामान लेना है,

 

उसके बाद में घर वापिस चला जाऊंगा, वह मुझे भी साथ में ले जाना चाहता था मगर मेने मना कर दिया था क्योकि मेरे घर पर अजा कोई नहीं है इसलिए में बाहर नहीं जा सकता था हमने भी अपने पड़ोसी से पूछा की वह किस जगह पर सामान लेता है हमे वही चलना होगा वह साथ में उसी और निकल पड़े थे जिस जगह पर सामान लेते है मगर अभी तो सब कुछ बंद हो गया है क्योकि रात हो गयी है अभी तो कुछ भी पता नहीं चल पायेगा, 

 

अब उसे इस वक़्त किस जगह पर खोजे जिससे उसका पता चल पाए, कुछ भी समझ नहीं आ रहा था, तभी उस दुकान के पास एक थैला पड़ा हुआ मिलता है वह आदमी देखता है की यह थैला तो मेरा लड़का ले रहा था यह यहां पर कैसे आया होगा, वह थैला यहां पर कैसे आया होगा, कुछ भी समझ नहीं आ रहा है, वह थैला देखता है मगर उसमे थोड़ा सामान मिलता है इसका मतलब यह हो सकता है की उसने यहां से सामान लिया था, मगर वह किस जगह पर चला गया है

Read More-चांदी के पत्ते हिंदी कहानी

हमे यह पता चल जाए तो उसका भी पता चल जाएगा, हम दोनों ही आगे बढ़ने लगे थे कुछ ही दुरी पर एक पार्क था उसमे खोजना चाहिए हो सकता है की वह उस जगह पर मिल जाए मगर वह उस जगह पर हो सकता है या नहीं, यह पता करना थोड़ा मुश्किल था, क्योकि अभी अँधेरा था मगर जब हम घर से निकल गए है तो यहां भी देख सकते है, कुछ देर बाद हम दोनों पार्क में चले गए थे, यह पार्क अभी बंद था मगर जब यहां तक आ ही गए है तो देख भी लिया जाए,

Read More-कुछ पल में सब बदल गया कहानी

Read More-एक बस का इंतज़ार कहानी

Read More-गांव में नयी सोच एक कहानी

किसी तरह हम दोनों अंदर गए थे हमे बहुत देर तक देखने पर भी कोई नज़र नहीं आया था तभी हमारी नज़र एक सीट पर गयी थी उसी जगह पर कोई हो सकता है वह कौन है उसे देखने गए थे तो वह पड़ोसी का लड़का था वह यहां पर क्या कर रहा है कुछ भी पता नहीं चल रहा था, वह सो रहा था उसे घर ले आये थे अभी भी वह सो ही रहा था, हमने उससे पूछा भी था की क्या हुआ था मगर वह सो ही रहा था जब सुबह हुई तो वह जाग गया था जब वह जागा तो उससे पूछा गया की क्या हुआ था, 

Read More-वक़्त-वक़्त की बात कहानी

Read More-समस्या कम हो सकती है कहानी

Read More-जीवन की अच्छी बातें कहानी

वह देखने लगा की वह घर पर क्या कर रहा है उसके पिताजी ने पूछा की क्या बात है तुम चुप क्यों हो, तुम बताते क्यों नहीं हो, उसने बताया की जब में दुकान से सामान ले रहा था तभी कुछ ही सामान लिया था अभी और भी सामान बाकी था, में सामान लेकर आ रहा था तभी किसी ने मेरे पैसे ले लिए थे मेरा थैला वही पर रह गया था में उनके पीछे भाग रहा था मगर वह मुझसे भी तेज भाग रहे थे वह दो लड़के थे वह पार्क में आ गए थे में भी पार्क में आ गया था,

Read More-पता नहीं कौन था कहानी

Read More-समय पर समझे हिंदी कहानी

Read More-राजा और उत्सव की कहानी

फिर पता नहीं क्या हुआ था मुझे याद नहीं है मेरे पैसे भी मेरे पास नहीं है और सामान भी मेने पूरा नहीं लिया था अब सब कुछ समझ आ गया था उन दोनों लड़को ने उससे पैसे ले लिए थे और भाग गए थे इसके साथ में ऐसा हुआ था की यह बेहोश हो गया था जिससे इसे कुछ भी पता नहीं चल पाया था हमे आज इसकी बहुत चिंता हो रही थी अगर यह समय पर नहीं मिलता तो पता नहीं हम कब तक परेशान रहते,

Read More-समय महान है कहानी

Read More-राजा का सबक कहानी

Read More-अकेलापन कहानी

कुछ देर बाद हम घर आ गए थे उन्हें उनका बेटा मिल गया था मगर यह अच्छी बात नहीं है की किसी को इतनी मुसीबत मिले की वह रात भर परेशानी में घूमते रहे, चिंता न करे एक कहानी, short stories in hindi, (hindi stories) इसलिए जीवन में हमेशा सतर्क रहना चाहिए और सभी मुसीबत का सामना करना चाहिए,

Read More Hindi Story :-

Read More-वह सच में चला गया कहानी

Read More-सोचकर फैसला करे हिंदी कहानी

Read More-एक समस्या की कहानी

Read More-घर-घर की बातें हिंदी कहानी

Read More-जीवन की परेशानियां

Read More-विश्वास से सब कुछ होता है

Read More-एक अजीब घटना की कहानी

Read More-जीवन की बदलती बातें कहानी

Read More-गलती मेरी थी हिंदी कहानी

Read More-भविष्य आपके हाथ में कहानी

Read More-अनजाने सफर की कहानी

Read More-एक सफर की कहानी

Read More-दादी माँ की कहानियां

Read More-दादा जी की बातें

Read More-ईमानदारी की नयी कहानी

Read More-ये मेरा फैसला है हिंदी कहानी

Leave a Reply

error: Content is protected !!