hindi story | चांदी के पत्ते और हमारे अच्छे कर्म कहानी

Hindi story

चांदी के पत्ते हिंदी कहानी, hindi story, हम अपनी अगली कहानी में पढ़ेंगे की पेड़ उसे मना करता है, पिछली कहानी (Read More-पेड़ उसे मना करता है कहानी) में आपने यही पढ़ा था की उस गरीब आदमी को वह tree हर रोज एक पत्ता देता है, वह पत्ता उसके हाथ में आता है और चांदी का बन जाता है, जिसके बाद वह आदमी बहुत खुश हो जाता है,

चांदी के पत्ते हिंदी कहानी : hindi story

hindi story.jpg

hindi story

वह हर रोज ऐसा ही करता है, उधर सेठ को यही लग रहा था की वह आदमी आजकल यहां पर नहीं आता है जबकि उसका गुजारा तो बहुत मुश्किल से चलता है वह लकडिया बेचकर ही धन कमाता है but वह यहां पर क्यों नहीं आ रहा है सेठ को यह बात बहुत अजीब लग रही थी, वह जंगल की और जाता है सेठ ने उसे देखा था but वह कुछ लाता नहीं है, इस तरह उसका घर कैसे चल रहा है, मुझे पता लगाना होगा, की क्या बात है, Hindi story

Advertisement

 

जब वह आदमी वापिस आता है तो सेठ उसे रोक लेता है उससे पूछता है की तुम आजकल लकडिया क्यों नहीं लाते हो, ऐसा कब तक चलेगा तुम्हे तो परेशानी होती होगी, वह आदमी कहने लगा की मुझे अब लकड़ियों की जरूरत नहीं है मेने दूसरा काम कर लिया है, सेठ ने पूछा की अब क्या कर रहे हो, जबकि वह बिना बताये ही चला गया था अब सेठ को कुछ शक हो गया था जो बहुत करता था वह अब बिना मेहनत कैसे रह सकता है, Hindi story

Advertisement

कुछ पल में सब बदल गया कहानी

एक बस का इंतज़ार कहानी

Next day वह आदमी जंगल की और जाता है सेठ सोचता है की पता लगाया जाए की वह किस place पर जाता है, वह सेठ उस गरीब आदमी के पीछे जाता है जिससे सब कुछ पता चल पाए, कुछ देर बाद वह गरीब आदमी एक पेड़ के पास रुक जाता है सेठ छुप जाता है, वह छुपकर देखता है की वह क्या कर रहा है, वह पेड़ के नीचे खड़ा हुआ आदमी अपने हाथ ऊपर करता है और एक पत्ता गिरकर उसके हाथ में आता है उसके बाद वह पत्ता चांदी का बन जाता है,

Advertisement

वक़्त-वक़्त की बात कहानी

समस्या कम हो सकती है कहानी

सेठ को believe नहीं होता है क्योकि एक पत्ता कैसे कहानी का बन गया था उसके बाद वह आदमी चला जाता है but सेठ नहीं जाता है वह देखता है की पत्ता चांदी का कैसे बन गया था, वह सेठ भी उस पेड़ के पास जाता है और हाथ ऊपर करता है but कोई भी पत्ता नहीं आता है वह सेठ समझ नहीं पाता है, की उसने ऊपर हाथ किया था तो पत्ता अपने आप ही गिर गया था, सेठ को इस बात से कोई मतलब नहीं था वह पेड़ के पत्ते तोड़ देता है but फिर भी वह साधारण ही पत्ते बने रहते है, Hindi story

पता नहीं कौन था कहानी

समय पर समझे हिंदी कहानी

कोई भी चांदी का पत्ता नहीं बना था, कुछ भी समझ नहीं आया था और उसने बहुत से पत्ते तोड़े भी थे मगर कुछ हासिल नहीं हुआ था वह वापिस चला गया था अगले दिन जब गरीब आदमी आया तो उसे सेठ ने रोक लिया था उससे पूछा की तुम्हारे हाथ में वह पत्ता कैसे चांदी का बन गया था वह गरीब आदमी कहने लगा की आपको यह बात कैसे पता है वह सेठ कहने लगा कि मेने कल सब देख लिया था, but मेरे हाथ में कोई भी चांदी नहीं बनी थी, Hindi story

समय महान है कहानी

राजा का सबक कहानी

तभी वह गरीब आदमी कहने लगा की वह नहीं बन सकती है Because तुम बहुत लालची हो, जो भी उस place पर लालच सोचकर जाता है उसे कभी भी चांदी नहीं मिलती है, सेठ चुप हो जाता है और वह गरीब आदमी चला जाता है सेठ यह बात जानता है की वह बहुत लालची है, चांदी के पत्ते हिंदी कहानी, hindi story, अगर आपको यह कहानी पसंद आयी है, तो आप इसे शेयर कर सकते है,

Hindi story : दूसरी कहानी हमारे अच्छे कर्म

hindi story

hindi story

आज वह चलकर बहुत थक चूका था इसलिए वह एक tree के नीचे आराम करने लगता है कुछ देर बाद उसे नींद आ जाती है जब उसकी आँखे खुलती है तो वह देखता है की एक आदमी उसके पास खड़ा हुआ है वह कहता है की मुझे भूख लगी है but वह आदमी कहता है की मेरे पास कुछ नहीं है तुम्हे यह ऐसे चले जाना चाहिए वह आदमी कहता है की थोड़ा खाना मिल जाता तो बहुत अच्छा होता,

गांव में नयी सोच एक कहानी

जीवन की अच्छी बातें कहानी

यह सुनकर वह आदमी कहता है की जब मेरे पास कुछ नहीं है तो में नहीं दे सकता हु वह आदमी चला जाता है और कुछ दुरी पर जाकर बैठ जाता है उसे लगता है की कोई और आएगा तो उससे वह मदद मांग सकता है वह आदमी आराम करके उठ जाता है और अपने थैले में से खाना निकालता है और खाने लगता है जबकि उसके पास खाना था but उसने उसे नहीं दिया था वह अपना पेट भर लेता है अब कुछ भी नहीं बचता है

अकेलापन कहानी

राजा और उत्सव की कहानी

वह उठ जाता है और उस आदमी पर नज़र जाती है जोकि उससे खाना मांगने आया था वह फल खा रहा था वह उसके पास जाता है और कहता है की तुम्हे यह फल कहा से मिला है वह आदमी कहता है की एक भले आदमी ने मुझे यह दिया है जब आप खाना का रहे थे तभी वह मुझे देकर गया था यह सुनकर उस आदमी अजीब लगता है Because उसने खाना नहीं दिया था बल्कि किसी और ने उसे भोजन दिया है यह story हमे यही कहती है की life में कभी भी किसी को भूखा नहीं भेजना चाहिए

Hindi story

अगर आपको लगता है की यह सही है और हमे हमेशा अच्छा काम करना चाहिए तो यह हमारे अच्छे कर्म कहानी, hindi story, आप शेयर कर सकते है और हमे भी बता सकते है

Read More Hindi Story :-

वह सच में चला गया कहानी

सोचकर फैसला करे हिंदी कहानी

एक समस्या की कहानी

घर-घर की बातें हिंदी कहानी

जीवन की परेशानियां

विश्वास से सब कुछ होता है

एक अजीब घटना की कहानी

जीवन की बदलती बातें कहानी

गलती मेरी थी हिंदी कहानी

भविष्य आपके हाथ में कहानी

अनजाने सफर की कहानी

एक सफर की कहानी

दादी माँ की कहानियां

दादा जी की बातें

ईमानदारी की नयी कहानी

ये मेरा फैसला है हिंदी कहानी

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *