अकेलापन की हिंदी कहानी, nice story in hindi

Nice story in hindi

अकेलापन की हिंदी कहानी, nice story in hindi, यह कहानी एक आदमी की है, जो अकेला ही रहता है, वह सोचता है की उसके पास भी कोई होता, Because अब उसकी उम्र भी बहुत ज्यादा हो गयी थी, 

अकेलापन की हिंदी कहानी : nice story in hindi

hindi story.jpg

nice story in hindi

उसके पास कोई भी नहीं आता था, उसे तो यही लगता था की आज उसके साथ कोई भी नहीं है, वह हर रोज यही इंतज़ार करता था की कोई तो होगा जो उसे अपना समझ पायेगा, because यह जीवन तो अब उसे अच्छा नहीं लगा रहा था, सभी लोग यही चाहते है की कोई तो उनसे मिलने आता, but शायद उनके नसीब में इंतज़ार ही लिखा होगा, अब उनसे कोई भी काम नहीं होता है, वह जिस जगह पर रहते है वह मकान दूसरी मंजिल पर है,

जीवन की अच्छी बातें कहानी

वह हर रोज अपने घर से बैठे हुए उन सभी लोगो को देखा करते थे जो वहा से होकर जाते थे. उन्हें बस देखा जाता था but कोई भी उनसे मिलने कैसे आ सकता था वह अकेले ही रहते थे, यह अकेलापन अब उनसे नहीं देखा जाता था अब वह इस उम्र में कोई काम भी नहीं कर सकते थे, because वह बूढ़े हो गए थे, यह उम्र तो आराम करने की थी, but कितना आराम करे आदमी यही सोचता है की कोई तो उनसे मिलने आये मगर कोई नहीं आता है,

कुछ पल में सब बदल गया कहानी

आज उनकी तबियत अच्छी नहीं थी, सुबह से कुछ भी अच्छा नहीं लग रहा था, वह बहुत मुश्किल से उठ पा रहे थे, उन्हें आज तो ऐसा ही लग रहा था की कोई भी उनके पास नहीं है अगर आज उनके साथ में कोई होता, तो बहुत अच्छा होता, but क्या करे जब कोई आना नहीं चाहता है, तो कुछ भी नहीं कर सकते है, सभी की अपनी मर्जी होती है वह उसी के अनुसार चलता है, यही सोचते हुए वह उठ जाते है, और बाहर आकर बैठ जाते है, but उन्हें कुछ नीचे नज़र आता है वह कौन है जो उन्हें नीचे से देख रहा है अब उनकी आँखे इतनी अच्छी है जो उन्हें साफ़ नज़र आये but जो भी है वह ऊपर आ रहा था

वक़्त-वक़्त की बात कहानी

उसने दरवाजा खट खटाया और वह दरवाजे को खोलने चले गए थे, जब दरवाजा खोला तो उन्हें यकीन नहीं हो रहा था उनके साथी सामने खड़ा था, यह बहुत साल पहले की बात है, जब वह शहर छोड़कर दूसरे शहर चले गए थे आज वह उनसे मिलने आये है उन्हें तो यकीन नहीं हो रहा था वह अंदर आये और उनसे पूछा की क्या हाल है, बहुत साल हो गए है तुमसे मिले हुए, आज जब हम यहां पर आये तो सोचा की अपने बचपन के साथी से जाकर मिला जाए जब से यहां से गए है मौका नहीं मिला था मिलने का,

समय महान है कहानी

राजा का सबक कहानी

आज जब समय मिला तो यहां पर आ गए दोनों बैठकर बाते करने लगे थे, कुछ देर बाद पता चला की उनकी तबियत आज कुछ अच्छी नहीं है उनका दोस्त उनके लिए कुछ दवाई भी लेकर आया था जिससे उन्हें कोई तकलीफ न हो, उसके बाद वह कहने लगे की तुम यहां पर अकेले कैसे हो, कोई यहां पर नहीं है जबकि यह उम्र तो आराम करने की है और तुम यहां पर काम कर रहे हो, जबकि यह अच्छा नहीं है, बात क्या थी यह तो वह नहीं बता पाए थे but उनका दोस्त यही कह रहा था की अब से में यहां पर हर रोज आता रहूँगा,

Nice story in hindi

because अब में यहां पर आ गया हु, और यही पर रहने वाला हु, उसके बाद जहर रोज शाम को वह मिलते थे शायद अब उनके साथ भी कोई ऐसा था जो उन्हें यह महसूस नहीं होने दे रहा था की वह अकेले है, life बहुत मुश्किल हो जाता है जब कोई साथ में नहीं होता है, इसलिए सभी को मिलकर साथ में रहना चाहिए, अकेलापन की हिंदी कहानी, nice story in hindi, अगर आपको यह कहानी पसंद आयी है तो आप इसे शेयर कर सकते है, 

Read More Hindi Story :-

पता नहीं कौन था कहानी

समय पर समझे हिंदी कहानी

राजा और उत्सव की कहानी

एक समस्या की कहानी

घर-घर की बातें हिंदी कहानी

जीवन की परेशानियां

विश्वास से सब कुछ होता है

एक अजीब घटना की कहानी

जीवन की बदलती बातें कहानी

गलती मेरी थी हिंदी कहानी

भविष्य आपके हाथ में कहानी

अनजाने सफर की कहानी

एक सफर की कहानी

दादी माँ की कहानियां

दादा जी की बातें

ईमानदारी की नयी कहानी

ये मेरा फैसला है हिंदी कहानी

Leave a Reply

error: Content is protected !!
+