शेर और भालू की कहानी-Sher aur Bhalu ki kahani

Sher aur Bhalu ki kahani

शेर और भालू की कहानी (Sher aur Bhalu ki kahani) आपको पसंद आएगी क्योकि भालू शेर की बातो में आ जाता और जब उसे पता चलता है तो उसे बहुत बुरा लगता है, इसलिए जीवन में कोई भी काम करने से पहले हमेशा सोचना चाहिए,

शेर और भालू की कहानी : Sher aur Bhalu ki kahani

kids hindi kahani.jpg

Sher aur Bhalu ki kahani

शेर यही सोचा करता था की भालू की दोस्ती बहुत से जानवरो से है और अगर में भालू को भी दोस्त बना लेता हु तो इससे मेरा काम आसानी से हो सकता है मगर शेर यह जानता था की भालू बहुत ही मुश्किल से उसकी बात को मानेगा लेकिन उसे भालू से दोस्ती तो करनी थी इसलिए वह कोई योजना सोचने लगा था,

 

बहुत सोचने पर भालू को अपना दोस्त बनाने के लिए एक योजना नज़र आयी थी, वह भालू के पास गया और कहने लगा की तुम हर रोज अपने खाने की परेशानी होती होगी, क्योकि तुम्हे उसे हासिल करने के लिए जगह-जगह तलाश करनी पड़ती होगी, अगर यह काम में कर दो तो तुम्हे कही भी जाने की जरूरत नहीं होगी, भालू ने कहा की यह सब मेरे लिए तुम क्यों कर रहे हो, शेर ने कहा की तुम सभी जानवरो को जानते होंगे और सभी से मिलते भी हो और में एक शेर हु इसलिए कोई भी मेरे पास नहीं आता है,

 

अगर जंगल में कोई भी परेशानी होगी तो मुझे पता लगना चाहिए जोकि मुझे पता नहीं होती है अगर तुम यह मेरा सन्देश सभी तक पहुंचा दोगे तो सभी मेरे पास आकर अपनी परेशानी को कह सकते है भालू शेर की बात मान गया था और शेर उसे एक बहुत बड़े मधुमखी के छत्ते के पास ले गया था जिसमे बहुत सारा शहद भी था जिससे भालू को बहुत अच्छा लगा था और शेर कुछ मछलिया भी तालाब से लेकर आया था अब भालू को बहुत अच्छा लग रहा था एक दिन एक हिरन को परेशानी हो रही थी और यह बात भालू ने सबकी को बता दी थी इसलिए वह हिरन शेर के पास अपनी समस्या को लेकर गया था 

Read More-अपने मन की बात की कहानी

हिरन शेर के पास आया और कहने लगा की मेरी समस्या का समाधान करिए बहुत से हिरन मुझे अपने झुण्ड में नहीं रख रहे है और वह वहा से निकालना चाहते है, शेर ने कहा की यह तो बहुत छोटी सी समस्या है मेरे पास आओ यह में बहुत आसानी से खत्म कर सकता था उसके बाद जब हिरन पास में आया तो शेर ने उसे खा लिया जब बहुत देर हो गयी थी भालू शेर के पास आया और कहने लगा की आपके पास एक हिरन अपनी समस्या को लेकर आने वाला था मगर वह कही दिखाई नहीं दे रहा है,

 

शेर ने कहा की वह अपनी समस्या का समाधान लेकर चला गया है उसकी समस्या बहुत छोटी थी इसलिए काम जल्दी ही पूरा हो गया था भालू ने कहाकि यह तो बहुत अच्छी बात है की वह अपनी समस्या का समाधान लेकर चला गया था, शेर ने पूछा की भालू को मछली पसंद आयी है तो भालू ने कहा की वह बहुत अच्छी लगी थी अगर ऐसा हर रोज हो जाए तो बहुत अच्छा होगा शेर ने कहा की ठीक है अगर सभी जानवरो की समस्या भी हर रोज आती रहे तो यह भी बहुत अच्छा होगा भालू ने कहा की इससे आपको क्या फायदा होता है वह आपको परेशान ही करते है,

 

शेर ने कहा की यह कोई समस्या नहीं है में बूढ़ा भी तो हो रहा हु और अब कही नहीं जा सकता हु इसलिए सोचा की अच्छे काम करके ही सबके काम आया जाए, भालू ने कहा की आप तो बहुत अच्छा काम कर रहे है उसके बाद भालू वहा से चला गया था शेर को भी आज बहुत अच्छा लग रहा था क्योकि अब उसे कोई भी शिकार ढूढ़ने की जरूरत नहीं पड़ने वाली थी बल्कि यही से ही सब कुछ हो रहा था बस भालू को थोड़ा से लालच देकर यह काम आसानी से हो रहा था 

Read More-बहादुरी की कहानी

अगली दिन की समस्या लोमड़ी की थी मगर लोमड़ी बहुत चालाक थी वह आसानी से नहीं फसना चाहती थी लोमड़ी शेर के पास आयी और कहने लगी की आप सभी की समस्या खत्म कर सकते है मेरी भी एक समस्या है लोमड़ी अपनी समस्या को बताने वाली थी तभी एक खरगोश वहा पर आ गया था और कहने लगा की आप पहले मेरी समस्या को खत्म करिए बाद में किसी और की समस्या को देख सकते है लोमड़ी ने कहा की ठीक है आज तुम ही अपनी समस्या को बताओ में कल आ जाउंगी

 

तभी शेर ने कहा की में समस्या को बहुत ही सावधानी से हटाता हु इसलिए लोमड़ी को वहा से जाने को कहा था लोमड़ी को इस बात पर थोड़ा शक हुआ था इसलिए लोमड़ी कुछ दूर जाकर वही पर छिपकर देखने लगी थी शेर उसे अपनी गुफा में अंदर ले गया और बहुत देर तक भी खरगोश वहा से नहीं आया था कुछ देर बाद शेर ने डकार ली और मौसम का आनंद लेने लग गया था लोमड़ी वही से शेर को देख रही थी लोमड़ी को शेर पर शक हो गया था

 

लोमड़ी भालू के पास गयी और सारी बात बता दी थी, भालू को लोमड़ी की बात पर यकीन नहीं हुआ था लेकिन लोमड़ी ने कहा की तुम्हे पहले पूरी बात को जानना होगा तभी भालू लोमड़ी के साथ गया था और लोमड़ी वही पर छुप गयी थी भालू ने कहा की कुछ देर पहले एक खरगोश यहां पर आया था वह अपनी कुछ समस्या लेकर आया होगा आपने उसकी समस्या को सुन लिया है शेर ने कहा की वह तो कुछ देर बाद ही यहां से चला गया था उसकी समस्या भी ज्यादा बड़ी नहीं थी

Read More-अच्छे स्वभाव की कहानी

उसके बाद भालू वापिस जाने लगा था लोमड़ी ने कहा की यह शेर झूट बोल रहा है खरगोश अभी तक वापिस नहीं आया है और जब से वह गुफा में उसे ले गया है तब से वह बहार नहीं निकला था भालू खरगोश के घर गया और उनसे सारी बात पूछी उन्होंने ने कहा की वह तो शेर के पास से अभी तक नहीं आया है अब सारी बात भालू को समझ आ गयी थी भालू ने अपने बहुत से दोस्त इकट्ठे किये और गुफा की और जाने लगा जब वह गुफा के पास पहुंचे तो शेर से सारी बात पूछी और जब शेर को पीटा गया तो उसने सारी बात बता दी और वहा से भाग गया था इसलिए कहते है की हमे लालच में कोई भी काम नहीं करना चाहिए

Read More-चालाक लोमड़ी की कहानी

अगर आपको यह शेर और भालू की कहानी (Sher aur Bhalu ki kahani) पसंद आयी है तो आप इसे शेयर जरूर करे और कमेंट करके हमे भी बताये.   

Read More Hindi Story :-

Read More-राजा के महल की कहानी भाग-1

Read More-राजा के महल की कहानी भाग-2

Read More-रेगिस्तान का सफर कहानी भाग एक

Read More- रेगिस्तान का सफर कहानी भाग दो

Read More-रेगिस्तान का सफर कहानी भाग तीन

Read More-रेगिस्तान का सफर कहानी भाग चार

Read More-रेगिस्तान का सफर कहानी भाग पांच

Leave a Reply

error: Content is protected !!