कबूतर की कहानी-hindi story for class 1 2 3 4

hindi story for class 1, 2, 3, 4, 5, 6

कबूतर की आजादी की कहानी (hindi story for class 1, 2, 3, 4, 5, 6) से हमे यह पता चलता है की अगर हम कोई भी काम किसी बंधन में करते है तो वह काम कभी अच्छा नहीं होता है इसलिए अपने काम हमेशा आजादी से करने चाहिए.

कबूतर की आजादी की कहानी : hindi story for class 1, 2, 3, 4, 5, 6

hindi story.jpg

hindi story for class 1 2 3 4 5 6

एक गांव में एक आदमी के पास एक कबूतर पिंजरे में रहता था वह अपने कबूतर को हर वक्त खाना खिलाया करता था वह अपने कबूतर को बहुत पसंद करता था और जब भी कहीं जाता था उसे साथ लेकर जाया करता था कबूतर अपने मन में यही सोचा करता था कि मैं इस पिंजरे से कब आजाद हो पाऊंगा कब मैं बाहर की दुनिया को उड़ कर देखूंगा

 

लेकिन उसका ख्वाब ख्वाब ही बना रहा एक दिन वह आदमी अपने दूसरे गांव में किसी से मिलने जा रहा था तभी उस कबूतर ने कहा कि तुम दूसरे गांव जा रहे हो वहां पर मेरा भाई एक कबूतर रहता है तुम उसे मेरा एक संदेश भिजवा देना उस आदमी ने अपने कबूतर देखा ठीक है तुम्हें उससे क्या कहलवाना है मैं उससे जाकर कह दूंगा कबूतर ने उस आदमी से कहा कि उसे जाकर यह कह देना कि बहुत साल बीत गए अब इस जगह पर रहना संभव नहीं है

 

ऐसी बात सुनकर वह आदमी चला गया जब वह दूसरे गांव में पहुंचा अपने रिश्तेदार के यहां पर तभी उसने उस कबूतर को देखा और कहा कि तुम्हारे भाई ने यह संदेश भिजवाया है जैसे ही उसके भाई ने यह संदेश सुना तो वह कबूतर बैठा बैठा ही ऊपर से गिर गया वह आदमी कुछ भी समझ नहीं पा रहा था फिर उसके बाद वह अपने घर वापस लौट आया और उसने अपने कबूतर से कहा कि मैंने जैसे ही उसे संदेश सुनाया वह ऊपर से अचानक ही गिर गया जब कबूतर ने यह बात सुनी तो वह पिंजरे में अपने आप ही अंदर ही गिर गया

Read More-दादी की एक छोटी कहानी

Read More-समय का खेल एक कहानी

वह सब कुछ देखकर आदमी यही सोच रहा था कि यह क्या हो रहा है वह कबूतर भी अचानक मर गया और यह भी अचानक ही मर गया फिर उस आदमी ने सोचा कि कबूतर तो अब रहा नहीं अब मुझे कबूतर को पिंजरे से बाहर निकाल देना चाहिए और जैसे ही उसने पिंजरे से कबूतर को बाहर निकाला कबूतर उड़ कर आसमान में जाने वाला था उसने कहा कि तुमने मेरी बहुत मदद की मेरे भाई ने यह संदेश भिजवाया था कि जैसे ही मैं करूं वैसे ही तुम कर देना इस से तुम आजाद हो जाओगे वह आदमी देखता ही रहा और कबूतर उड़ गया जब कबूतर जैसे बहुत चालाकी से अपने आप को आजाद कर सकते हैं तो इंसान अपनी अपने आप को आजाद क्यों नहीं कर पा रहा है उसे भी हर काम के करने की आजादी है जब तक वह आजाद होकर काम नहीं करेगा तो वह जीवन में सफलता क्सेस प्राप्त कर पायेगा.

कबूतर की आजादी की कहानी (hindi story for class 1, 2, 3, 4, 5, 6)आपको कैसी लगी आप हमे जरूर बताये और कमेंट करके हमे भी बताये और इसे Facebook पर शेयर जरूर करे.

Read More-बीरबल की समझदारी

Read More-अकबर बीरबल की कहानी

Read More-अकबर का नया सवाल

Read More-बीरबल की नयी कहानियां

Read More-ढोंगी पुजारी की हास्य कहानी

Read More-घोड़े की हास्य कहानी

Read More-राजा और साधू की कहानी

Read More-एक शक्ल के दो आदमी एक कहानी

Read More-दो भिखारी की कहानी

Read More-एक सेवक की कहानी

Read More-मंगू की आदत की कहानी

Read More-राजा का वादा एक कहानी

Read More-राजा और माली की कहानी

Read More-एक अच्छी मदद की कहानी

Read More-सच्चे भक्त की कहानी

Read More-अली और बाबा की नयी कहानी

Read More-बचपन की कहानी

Leave a Reply

error: Content is protected !!