दो नयी कहानी, Help hindi stories for class 7

Help hindi stories for class 7 | Prernadayak Hindi stories

हम आपके सामने दो नयी कहानी (hindi stories for class 7) लेकर आये है यह दोनों कहानी (hindi stories for class 7 with moral) आपके जीवन पर बहुत गहरा प्रभाव डाल सकती है जिससे यह कहानी आपको सोचने पर मजबूर कर सकती है हमे उम्मीद है की यह दोनों कहानी (Prernadayak Hindi stories) आपको पसंद आएगी,

Hindi stories with moral :-1 (हिंदी कहानी)

कक्षा सात की हिंदी कहानी : hindi stories for class 7

hindi stories.jpg

Help hindi stories for class 7

वह हर रोज अपनी कक्षा में पढ़ने जाया करता था वह इस बात को जानता था की पढ़ाई उसके लिए बहुत जरुरी है इसलिए वह अपनी पढ़ाई पर ध्यान देता था वह किसी को भी परेशान नहीं देखना चाहता था इसलिए जब भी कोई उससे मदद मांगता था तो वह मना नहीं कर पाता था, वह अपनी कक्षा में बैठा हुआ पढ़ाई कर रहा था तभी उसकी खिड़की के पास एक कबूतर आता है वह बीमार लग रहा था उस लड़के का नाम रिजेश था वह उसे देख रहा था

 

मगर रिजेश इस बात को जानता था की अभी उसकी कक्षा चल रही है इसलिए वह अभी बाहर नहीं जा सकता था कुछ समय बाद ही वह बाहर जाता है और देखने की कोशिश करता था खिड़की के पास जाता था कबूतर नीचे बैठा हुआ था, वह चल नहीं पा रहा था, उसे वह देखता है मगर कुछ भी समझ नहीं आता है वह इस वक़्त क्या ऐसा करे की वह कबूतर ठीक हो जाए रिजेश कबूतर के पास बैठा हुआ सोच रहा था

Read More-समस्या कम हो सकती है कहानी

रिजेश को लग रहा था की शायद वह कबूतर प्यासा हो सकता है वह उसके लिए पानी लेकर आता है वह कबूतर को पानी पिलाता है वह कबूतर पानी पिता है रिजेश समझ जाता है की वह कबूतर प्यासा था यही कारण था की वह चल भी नहीं पा रहा था गर्मी का मोसम था इस मौसम में पानी अधिक जगह से सूख गया था यही वजह से हो सकती है वह उड़ भी नहीं पाया था जब रिजेश कबूतर को पानी पिला रहा था तभी उसे ऐसा करते हुए टीचर ने देख लिया था. Hindi stories with moral

 

जब रिजेश कक्षा में आया तो उसके टीचर ने रिजेश को बुलाया और उससे पूछा की तुम्हे कैसे पता लगा की वह कबूतर प्यासा था रिजेश ने यह बता सुनी तो टीचर की और देखने लगता है क्योकि उसे नहीं पता था की उसे किसी ने देखा होगा रिजेश कहता है की वह कबूतर प्यासा लग रहा था क्योकि जब कबूतर को ध्यान से देखा तो पता चल गया था की वह खाली जगह पर अपनी चोंच लगा रहा था उसे देखकर लग रहा था की वह प्यासा हो सकता है, तभी टीचर ने कहा की रिजेश बहुत अच्छा लड़का है जिसने कबूतर की बहुत मदद की थी अगर यह उसकी मदद न करता तो वह कबूतर प्यास से मर सकता था उसका यह काम मुझे बहुत पसंद आया था सभी को रिजेश की तरह ही बनना चाहिए,

Read More-वक़्त-वक़्त की बात कहानी

hindi stories with moral : हिंदी कहानी का मोरल :- यह कहानी हमे यही बताती है की हमे अपने जीवन में पक्षी की मंद करनी चाहिए उनके लिए हमेशा पानी रखना चाहिए क्योकि ऐसा करने से वह प्यास नहीं मरेंगे हमे उनके लिए अच्छे काम करने चाहिए तभी हम उन्हें बचा सकते है

Hindi stories with moral :-2 (हिंदी कहानी)

Do not disturb hindi stories with moral : (परेशान न करे हिंदी स्टोरी) 

वह लड़की कक्षा सात में पडती थी, वह बहुत कम ही बोलती थी सभी बच्चे यही समझते थे की वह बहुत ज्यादा घमंडी है यही कारण हो सकता है की वह बात नहीं करती है मगर सच क्या था कोई भी इस बात को नहीं जानता है वह अभी उस स्कूल में नयी आयी थी वह किसी को भी नहीं जानती थी, यह भी बात हो सकती थी बात कोई भी हो वह सब कुछ समझ सकती थी कक्षा में पढ़ाई हो रही थी सभी बच्चे पढ़ाई कर रहे थे

 

कक्षा की टीचर उस लड़की से पूछती है की तुम्हे इस प्रश्न का मतलब पता है वह लड़की उस प्रश्न का उत्तर देती है वह टीचर भी समझ जाती है की उस लड़की को उस प्रश्न का उत्तर आता है बहुत से बच्चे भी उसका जवाब नहीं दे पाते है क्योकि वह अधिक पढ़ाई नहीं करते है इसलिए वह जवाब नहीं दे पाते है टीचर कहती है की यह दूसरे स्कूल से पढ़कर यहां पर आयी है फिर भी यह बहुत से प्रश्न का उत्तर जानती है क्योकि यह घर पर पढ़ाई करती है जबकि तुम सभी ध्यान नहीं देते हो, Hindi stories with moral

Read More-जीवन की अच्छी बातें कहानी

जब सभी को यह बात सुनाई जाती है तो वह गुस्सा हो जाते है और सोचते है की इस लड़की की वजह से ऐसा हुआ था जबकि हमे यह बात सुनायी गयी है हमे अच्छा नहीं लग रहा है वह उस लड़की के पास जाते है और कहते है की तुम्हे ऐसा है करना चाहिए था तुम्हारे वजह से हमे कक्षा में सुनना पड़ा था वह लड़की उनकी बात पर ध्यान नहीं देती है और चली जाती है ऐसा लगता था की पढ़ाई उसके लिए बहुत जरुरी है वह उसके सामने कुछ भी नहीं देखती है

 

अगले दिन जब वह आती है, तो सभी बच्चे उसे परेशान करते है वह उन पर ध्यान नहीं देना चाहती है मगर सभी बच्चे नहीं मानते है उसे लगातार परेशान करने लग जाते है कुछ देर बाद वह बाहर जाने की कोशिश करती है मगर वह अचानक ही गिर जाती है उसे पैर में चोट आ जाती है जिसकी वजह से उसे काफी तकलीफ होती है कुछ समय बाद टीचर आ जाते है और पूछते है की यह क्या हुआ है तुम्हारे पैर में चोट आयी है वह कहती है की में अचनक गिर गयी थी. Hindi stories with moral

Read More-दोस्ती की नयी कहानी

मगर टीचर को लगता है की ऐसा कुछ नहीं हुआ होगा शायद उसे परेशान किया गया होगा वह सभी से पूछते है मगर कोई भी जवाब नहीं देता है लड़की कहती है की इसमें इनका कोई भी दोष नहीं है टीचर उन्हें कुछ नहीं कहते है मगर अगले दिन से सभी बच्चे बदल गए थे

 

hindi stories with moral : हिंदी कहानी का मोरल :- हमे बिना सोचे ऐसा कोई भी काम नहीं करना चाहिए जिससे किसी को परेशानी का सामना करना पड़े हमे जीवन में अच्छे काम पर ध्यान देना चाहिये वह लड़की अपनी पढ़ाई पर ध्यान दे रही थी मगर बच्चे उसे परेशान कर रहे थे ऐसा सोचना ही गलत होता है.

Read More-समय पर समझे हिंदी कहानी

Read More-बुराई से दूरी अच्छी कहानी

अगर आपको यह दोनों हिंदी कहानी (Help hindi stories for class 7, Prernadayak Hindi stories) पसंद आयी है तो शेयर जरूर करे अगर आप इन दोनों कहानी (stories for class 7 in hindi, hindi stories with moral) को फेसबुक पर शेयर करना चाहते है तो आप कर सकते है अगर आप हमे कोई भी कहानी भेजना चाहते है तो आप हमे भेज सकते है.

Read More Hindi Story :-

Read More-पता नहीं कौन था कहानी

Read More-एक सच्ची मदद की कहानी

Read More-एक बस का इंतज़ार कहानी

Read More-समय महान है कहानी

Read More-अकेलापन कहानी

Read More-मुझे क्या करना चाहिए 

Read More-हमारे पास अब कुछ नहीं है कहानी

Read More-हीरा है या पत्थर कहानी

Read More-सच्ची पूजा का असर कहानी

Read More-चिंता न करे एक कहानी

Read More-चांदी के पत्ते हिंदी कहानी

Read More-वह सच में चला गया कहानी

Read More-सोचकर फैसला करे हिंदी कहानी

Read More-एक समस्या की कहानी

Read More-घर-घर की बातें हिंदी कहानी

Read More-जीवन की परेशानियां

Read More-विश्वास से सब कुछ होता है

Leave a Reply

error: Content is protected !!
+