मुलाकात की हिंदी कहानी, Story in hindi

Story in hindi

मुलाकात की हिंदी कहानी, (Story in hindi) यह कहानी आपको पसंद आएगी, क्योकि जीवन में हम उन बातों पर ध्यान नहीं देते है, जिन पर हमे देना चाहिए, अगर हम ध्यान देते है, तो हमसे कभी भी गलती नहीं होती है, हम जीवन में अच्छा कर पाते है,

मुलाकात की हिंदी कहानी : Story in hindi

hindi story.jpg

Story in hindi

वह अचानक ही सामने वाली सीट पर आकर बैठ गया उसे पहले कभी नहीं देखा था हम दोनों ही अनजान थे एक दूसरे को बिल्कुल भी नहीं जानते थे तभी पूछने लगा कि आप यहीं पर रहते हैं मैंने उससे कहा कि मैं बहुत ही पीछे से आ रहा हूं मैं यहां पर नहीं रहता हूं आप शायद इसी शहर में रहते हैं फिर बोला कि हां मै इसी शहर में रहता हूं लेकिन पहली बार सफर पर जा रहा हूं मैं घर से पहली बार निकला हूं उससे मैंने पूछा कि तुम पहली बार क्यों निकले इससे पहले भी तुम सफर कर सकते थे

 

Advertisement

लेकिन वह आदमी कहने लगा कि मेरा ज्यादा काम बाहर जाने का नहीं होता है लेकिन आज मैं पहली बार बाहर जा रहा हूं बाहर जाने में थोड़ी सी मुश्किल हो रही है क्योंकि मैं पहले कभी भी बाहर नहीं गया हूं मेरी एक दुकान है मैं उसी पर काम करता हूं लेकिन दुकान का सामान आज नहीं आया था इसलिए मैं उस सामान को देखने के लिए दूसरे शहर जा रहा हूं इससे पहले मेरे साथ ऐसा कभी नहीं हुआ था समय पर सामान आया करता था लेकिन आज किसी कारणवश सामान नहीं आ पा रहा है और जिस से बात करनी थी उसे मुलाकात भी नहीं हो पा रही है

Read More-सरल जीवन की हिंदी कहानी

Advertisement

इसलिए मुझे दूसरे शहर जाने की जरूरत पड़ गई उसकी बातों से ऐसा लग रहा था कि बहुत ही साधारण आदमी है और बहुत ही सीधा-सादा क्योंकि वह बहुत अच्छी तरह बात कर रहा था ट्रेन अभी चली थी कि एक आदमी दौड़ता हुआ ट्रेन की बोगी में आ गया उसे जगह नहीं मिल रही थी तभी सामने वाले के पास थोड़ी जगह खाली थी वह वहीं पर बैठ गया कुछ देर बैठा हुआ था और उसे देखने में थोड़ा सा अजीब लग रहा था तभी अगले स्टेशन पर वह आदमी खड़ा हुआ चला गया उसे देखकर बहुत ही अजीब लग रहा था सामने वाले व्यक्ति ने पूछा कि मेरा स्टेशन नहीं आया है, यह कितने समय में आ जाएगा

 

तभी उसे मैंने कहा कि यह कुछ ही देर में आ जाएगा आप आराम से बैठे रहिए जब स्टेशन जाएगा तो आपको बता दिया जाएगा तभी सामने वाले व्यक्ति ने कहा कि मेरे पास एक छोटा सा बैग था पर दिखाई नहीं दे रहा है वह कहां चला गया मैं उसे अपने साथ में लेकर आया था लेकिन वह मुझे नहीं दिखाई दे रहा तभी हम दोनों को ऐसा लगा कि जो सामने वाला व्यक्ति अचानक आकर बैठ गया था शायद वही बैग लेकर गया है और हमें बड़ा अफसोस हो रहा था कि उसका बैग उठा लिया गया था तभी उससे पूछा कि बैग में कितने पैसे थे,

Advertisement

Read More-अच्छे सेवक की हिंदी कहानी

सामने वाले व्यक्ति ने कहा कि उसमें कुछ भी पैसा नहीं था लेकिन सामान कि उसमें लिस्ट रखी हुई थी जिसके अनुसार मुझे सामान लेने जाना था और वह लिस्ट बैग में चली गई चलो यह बात घबराने की नहीं है कि उसके बैग में कुछ सामान था लेकिन यह बात बहुत अजीब लगती है कि कोई भी आदमी आकर बैठ जाता है और अचानक से सामान लेकर चला जाता है तभी सामने वाले व्यक्ति ने कहा कि जीवन में ऐसे बहुत से लोग मिलते हैं जो अच्छे नहीं होते हैं शायद उसकी बात सही लग रही थी क्योंकि किसी पर भी यकीन करना इतना आसान नहीं होता सामने से हमेशा अच्छा ही दिखाई देता है लेकिन बाद में उसके बारे में पता चलता है तो बहुत अफसोस होता है

 

तभी सामने वाले व्यक्ति ने अपने पास में रखे हुए एक बैग को देखा सामने वाले व्यक्ति का बैग उसी के पास था लेकिन वह थोड़ा पीछे चला गया था जिसके कारण दिखाई नहीं दे रहा था तभी सामने वाले व्यक्ति ने कहा कि मेरा बैग तो यहीं पर है हम लोग उसके बारे में गलत सोच रहे थे जबकि मेरा बैग तो मेरे ही पास है तभी सामने वाले व्यक्ति ने कहा कि हमने उसके बारे में गलतफहमी रख ली थी क्योंकि हमारा बैग तो हमारे ही पास है कुछ भी नहीं ले गया है सामने बैठे वाले व्यक्ति ने सोचा कि हम कितना गलत सोच लेते हैं

Read More-अच्छी सोच की हिंदी कहानी

बगैर किसी कारण के, जबकि हमें पहले सोचना चाहिए तभी किसी के बारे में बात करनी चाहिए उसे अपनी बात पर बहुत ही अफसोस हो रहा था क्योंकि वह ऐसा नहीं कहना चाहता था पहले उसे अपने पास देख लेना चाहिए था तभी उसके बारे में उसे बोलना चाहिए था उस व्यक्ति का स्टेशन आ चुका था और वह नीचे उतरने के लिए तैयार था तभी वह आदमी कहने लगा कि अगर वह आदमी आपको दोबारा कभी मिले तो उसे बता देना कि हम उसके बारे में गलत नहीं सोचते हैं

Read More-राजा और जादूगर की हिंदी कहानी

जब उसका स्टेशन आया है वह स्टेशन से उतर चुका था उतर कर चला गया था यह छोटी सी मुलाकात हमें यह समझा गई कि हमें बिना सोचे समझे किसी पर भी यकीन नहीं करना चाहिए हमें सबसे पहले अपने बारे में सोचना चाहिए तभी दूसरों के बारे में हमें पता लगेगा अगर हम सही हैं तो सब कुछ सही होता है, आपके जीवन में बहुत से लोग मिलेंगे, कुछ उनमे से बहुत अच्छे होंगे और कुछ पर यकीन करना मुश्किल होगा, आपके हमेशा अच्छा ही बनना होगा, अगर आप अच्छे है तो सब कुछ अच्छा ही होगा, क्योकि जैसा हम सोचते है वैसा ही होता है, हमे किसी के भी बारे में गलत विचार नहीं रखने चाहिए,

Read More-भाग्य और मेहनत की कहानी

अगर आपको यह मुलाकात की हिंदी कहानी, (Story in hindi) कहानी पसंद आयी है तो आप इसे शेयर जरूर करे और कमेंट करके हमे भी बताये, अगर आप कुछ भी पूछना चाहते है या आपके मन में कोई भी सवाल है तो आप कमेंट करके पूछ सकते है,

Read More Hindi Story :-

Read More-रिश्तों के बदलते मायने कहानी

Read More-घबराहट का सामना हिंदी कहानी

Read More-बच्चों की कहानी

Read More-जीवन में आया बदलाव कहानियाँ

Read More-जादुई थैले की कहानी

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *